Gold Price: सोना हुआ फिर सस्ता, चांदी के भाव मजबूत, जानिए आज के भाव

0
14

नई दिल्ली। Gold & Silver Price Today: कमजोर वैश्विक संकेतों के बीच दिल्ली सर्राफा बाजार में मंगलवार को सोने का भाव 100 रुपये की गिरावट के साथ 73,310 रुपये प्रति 10 ग्राम पर आ गई। जो कि सोमवार 73,410 रुपये प्रति 10 ग्राम पर ठहरा था। वहीं चांदी की कीमत पिछले सत्र के 94,270 रुपये प्रति किलोग्राम से 180 रुपये बढ़कर 94,450 रुपये प्रति किलोग्राम हो गई।

दिल्ली सर्राफा बाजार में 24 कैरेट सोने की कीमत 100 रुपये की गिरावट के साथ 73,310 रुपये प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गई। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के शोध विश्लेषक दिलीप परमार बताते हैं कि फेड सदस्य के भाषण और अमेरिकी मुद्रास्फीति के आंकड़ों से पहले सोने की कीमतों में गिरावट आई।

घरेलू और वैश्विक मोर्चे पर चांदी की कीमतों में मजबूत बेस मेटल और जोखिम भरे मूड को देखते हुए तेजी आई।” दिलीप ने कहा कि निकट भविष्य में चांदी की कीमतों के पीली धातु से बेहतर प्रदर्शन करने की उम्मीद है। उन्होंने बताया कि विदेशी मोर्चे पर, कॉमेक्स पर हाजिर सोना 2,362 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार कर रहा था, जो पिछले बंद भाव के मुकाबले 11 डॉलर प्रति औंस कम है।
विज्ञापन

वहीं ईरान में नई सरकार और राजनीतिक विकास के साथ, अमेरिका ने सोमवार को संघर्ष विराम वार्ता के बारे में कुछ प्रगति का उल्लेख किया, जिसका असर धातु पर पड़ा। मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड (एमओएफएसएल) में कमोडिटी रिसर्च के वरिष्ठ विश्लेषक मानव मोदी ने कहा, “इज़राइल या अन्य जगहों से कोई भी अपडेट कीमतों में आगे की अस्थिरता के लिए महत्वपूर्ण होगा।” मानव मोदी ने कहा कि ट्रेडर्स फेडरल रिजर्व के चेयरमैन जेरोम पॉवेल की गवाही और सप्ताह के दौरान आने वाले प्रमुख मुद्रास्फीति के आंकड़ों से अमेरिकी ब्याज दरों पर और अधिक संकेतों पर भी नज़र रखेंगे।

वहीं चांदी 31.03 डॉलर प्रति औंस पर बोली गई। पिछले सत्र में, यह 30.93 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुई थी। एलकेपी सिक्योरिटीज में कमोडिटी और करेंसी के वीपी रिसर्च एनालिस्ट जतीन त्रिवेदी ने कहा, “पिछले दो दिनों में सोने की कीमतों में उतार-चढ़ाव देखा गया, चीन द्वारा एक और महीने के लिए सोने की खरीद रोकने के बाद मुनाफावसूली शुरू हो गई।”

डीवीपी-रिसर्च, गैर-कृषि प्रथमेश माल्या के अनुसार एंजेल वन में कमोडिटीज और करेंसीज में, सितंबर में संभावित अमेरिकी फेडरल रिजर्व दर में कटौती की अटकलों से प्रेरित हालिया रैली के बाद इक्विटी में उछाल और मुनाफाखोरी के दबाव में सोने की कीमतों में गिरावट आई। माल्या ने कहा कि मुनाफाखोरी, मजबूत इक्विटी और प्रमुख फेड बयानों और मुद्रास्फीति के आंकड़ों की प्रत्याशा के कारण पीली धातु की कीमतें कम रहने की संभावना है।