वैष्णो देवी यात्रा आज से होगी शुरू, जानिए दर्शन के नियम

0
411

जम्मू। रविवार से माता वैष्णो देवी के भवन में माता के जयकारे सुनाई देंगे, क्योंकि रविवार से भक्तों को दर्शन करने की इजाजत दे दी गई है। हालांकि भवन में कुछ कोरोना पॉजिटिव के मामले आने के बाद बैठकों का दौर चला था, जिसमें यात्रा को खोलने को लेकर फिर से विचार किया गया था। लेकिन बोर्ड की तरफ से फैसला किया गया कि यात्रा को शुरू किया जाएगा। इसके लिए कुछ शर्त रखी गई है। जिसमें अभी दूसरे प्रदेश से आने वाले भक्तों को उतनी तादाद में नहीं आने दिया जाएगा, जितनी संख्या में वह पहले दर्शन करने को आ सकते थे।

जानकारी के अनुसार 18 मार्च को कोरोना के कारण माता की यात्रा को बंद कर दिया गया था। पांच महीनों बाद यात्रा को फिर से शुरू किया जा रहा है। जिससे कि कटड़ा के व्यापारियों के चेहरे भी खिले हैं। बोर्ड की तरफ से यात्रा के लिए कई तरह की एहितयात बरती जा रही है। ताकि कोई भी कोरोना का मामला ना आ सके। दूसरा कोई भी कोरोना पॉजिटिव यात्रा में शामिल ना हो सके।

रमेश कुमार सीईओ श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने पुष्टि करते हुए बताया कि रविवार से यात्रा को शुरू कर दिया जाएगा। जिसमें पूरे नियम बनाए गए है। एसओपी के तहत की भक्तों को यात्रा पर भेजा जाएगा।

दो हजार भक्तों को जाने की अनुमति
प्रतिदिन दो हजार भक्तों को माता के दरवार में जाने की अनुमति दी गई है। जिसमें 1900 प्रदेश के भक्त होंगे। जबकि सिर्फ 100 बाहर के भक्तों को आने की अनुमति होगी। अगले आदेश तक गिनती को इतना ही रखा जाएगा।

ऑनलाइन पर्ची से होंगे दर्शन
बोर्ड की तरफ से फैसला लिया गया कि माता के दर्शन के लिए ऑनलाइन पर्ची लेना होगी। कटड़ा में श्राइन बोर्ड के पर्ची काउंटर पर पर्ची नहीं मिलेगी। ताकि वहां पर भक्त जमा ना हो सकें। इससे एसओपी के नियमों के पालन की अवहेलना हो सकती थी। इसलिए सिर्फ ऑनलाइन पर्ची पर ही माता के दर्शन होंगे।

आने जाने के लिए अलग-अलग ट्रैक
माता के दर्शन के लिए आने जाने के अलग अलग ट्रैक रखे गए है। कटडा से भवन तक जाने के लिए वाया बाणगंगा अर्धकुवारी सांझीछत पुराना रूट रखा गया है। जबकि वापस आने के लिए हिमकोटी ताराकोट रूट को रखा गया है। यह नया रूट है।

बाहर से आने वाले भक्तों को कराना होगा टेस्ट
प्रदेश के बाहर से आने वाले भक्तों को टेस्ट करवाकर आना पड़ेगा। उनके टेस्ट की रिपोर्ट को देखने के बाद ही आगे जाने की इजाजत दी जाएगी। इसके अलावा प्रदेश के रेड जोन एरिया में रहने वाले भक्तों को भी इसी तरह से रिपोर्ट दिखाकर आगे जाने दिया जाएगा। रूट पर कई जगह थर्मल स्क्रनिंग होगी।

बोर्ड की सलाह
बोर्ड की तरफ से सलाह दी गई है कि बुजुर्ग, गर्भवती महिलाएं और बच्चे यात्रा पर ना आएं। क्योंकि उनके संक्रमित होने का ज्यादा खतरा बना रहता है। इसके अलावा बाकी यात्रियों को कहा गया है कि बिना फेस मास्क के ना आएं। ऐसे भक्तों को आगे नहीं बढ़ने दिया जाएगा। इसके अलावा आरोग्य सेतु ऐप को भी डाउनलोड करना पड़ेगा।

भवन में दर्शन करने के पूरे इंतजाम
बोर्ड की तरफ से कहा गया है कि दर्शन करने के लिए पूरे इंतजाम किए गए है। विशेष आरती में बैठने की व्यवस्था को कुछ समय के लिए बंद किया गया है। इसके अलावा माता के दर्शन के लिए एसओपी का पालन होना। भक्तों को दूरी बनाकर खडा किया जाएगा। दर्शन करने के लिए कम कम भक्तों को गुफा के अंदर भेजा जाएगा।