युवा सहकार योजना आज से शुरू, कारोबार के लिए तीन करोड़ तक का लोन

0
86

नई दिल्ली। सहकारिता क्षेत्र में क्रांति लाने की तर्ज पर स्टार्ट अप इंडिया और स्टैंड अप इंडिया की तर्ज पर केंद्र की मोदी सरकार आज युवा सहकार योजना की शुरुआत करेंगी। दिल्ली में पहली बार शुरू हो रहे तीन दिवसीय भारतीय अंतरराष्ट्रीय सहकारी व्यापार मेले में कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर इस योजना का शुभारंभ करेंगे। इस मेले के आयोजन का मकसद कृषि और उससे संबंधित उत्पादों को व्यापक अंतरराष्ट्रीय बाजार उपलब्ध कराना है।

कृषि मंत्रालय के अनुसार, राष्ट्रीय सहकारिता विकास निगम इस योजना के लिए रियायती दर पर लोन उपलब्ध कराएगा। योजना के तहत पूर्वोत्तर क्षेत्र और आकांक्षी जिलों में सहकारिता समितियों को नवाचार के लिए 80 और 20 के अनुपात में लोन मिलेगा। यह सुविधा शत प्रतिशत महिला सहकारी समितियों, अनुसूचित जाति और जनजाति के लोगों तथा दिव्यांगों को दी जाएगी।

अन्य सहकारी समितियों को 70 और 30 के अनुपात में लोन मिलेगा। योजना के तहत कारोबार करने के लिए एक से तीन करोड़ रुपए का लोन मिलेगा। सरकार ने ‘युवा सहकार सहकारी उद्यम सहायता व नवाचारी योजना’ का सालाना बजटीय आवंटन 100 करोड़ रुपए रखा है। इस योजना का मकसद देश के गांवों में अर्थ क्रांति लाना है।

चीन की तर्ज पर अर्थक्रांति लाना चाहती है सरकार
चीन में 1990 के दशक के उत्तरार्ध में किसान सहकारी की तादाद में तेजी से वृद्धि हुई और 2007 में किसान पेशेवर सहकारी के लिए राष्ट्रीय कानून लाया गया जिससे किसान पेशेवर सहकारी की स्थापना और उसके प्रबंधन में सरकार की ओर से काफी मदद मिली और किसानों में उद्यमिता का विकास हुआ। अब चीन की ही तर्ज पर केंद्र सरकार किसान सहकारी को बढ़ावा देकर देश में अर्थक्रांति लाना चाहती है। इसी को देखते हुए सरकार युवा सहकार योजना लेकर आई है।

मेले में 35 देशों के प्रतिनिधि-संगठन हिस्सा लेंगे
भारतीय अंतरराष्ट्रीय सहकारी व्यापार मेला मेला में 35 देशों के प्रतिनिधि और संगठन अपने अपने उत्पादों को लेकर आएंगे। इन देशों में अमेरिका, ब्रिटेन, आस्ट्रेलिया, जापान, इजरायल, चीन, ब्राजील, बंगलादेश, नेपाल, भूटान, फिजी, जर्मनी, ईरान, मलेशिया, मारीशस, रुस, स्पेन, श्रीलंका आदि शामिल हैं।

मेले का आयोजन राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम के नेतृत्व में अंतरराष्ट्रीय संगठन नेडैक के अलावा नैफेड, एपीडा आईटीपीओ की ओर से किया जा रहा है। कृषि, वाणिज्य तथा विदेश मंत्रालय इसमें सहयोग कर रहा है। तेलंगाना, हरियाणा, उत्तराखंड, पुड्डुचेरी, मेघालय और गोवा व्यापार मेले के साझीदार राज्य है। इफको, आईपीएल, अमूल, सीडीबी, यूपीएल, एफएओ, लिनाक, नैफकब आदि की मेले में भागीदारी होगी।