जितने स्मार्ट तरीके से खेलेंगे या पढ़ेंगे उतने ही अच्छे आयाम स्थापित होंगे: भूटिया

49

टैलेंटेक्स टॉपर्स को मिले 2.50 करोड़ के कैश प्राइज, मैडल व सर्टिफिकेट

कोटा। एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट प्राइवेट लिमिटेड की ओर से आयोजित देश की बड़ी प्रतिभा खोज परीक्षाओं में से एक टैलेंटेक्स का पुरस्कार वितरण समारोह व सक्सेस पॉवर सेशन रविवार को हुआ। जवाहर नगर स्थित एलन समुन्नत कैम्पस के समरस सभागार में हुए इस कार्यक्रम में देशभर से मेधावी विद्यार्थी व उनके अभिभावक शामिल होने कोटा पहुंचे। समारोह में एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट ने अपनी परम्परा को कायम रखते हुए टैलेंटेक्स-2022 और इस वर्ष आयोजित टैलेंटेक्स-2023 दोनों वर्षों के टॉपर्स का सम्मान किया।

इस अवसर पर दोनों वर्षों के टैलेंटेक्स कक्षा 5 से 10 तक के टॉप-20 स्टूडेंट्स को कैश प्राइज, गोल्ड व सिल्वर मैडल और सर्टिफिकेट देकर पुरस्कृत किया गया। समारोह में विशिष्ट अतिथि इंडियन फुटबाल प्लेयर अर्जुन अर्वाडी पद्मश्री बाइचुंग भूटिया रहे। कार्यक्रम में एलन के छात्र रहे नीट-2016 के ऑल इंडिया रैंक-1 व वर्तमान में एम्स दिल्ली से न्यूरो सर्जरी की पढ़ाई कर रहे डॉ. हेत संजयशाह ने स्टूडेंट्स को मोटिवेट किया।

टैलेंटेक्स-2023 परीक्षा इस वर्ष देश के 25 राज्यों व केन्द्रशासित प्रदेशों के 403 शहरों में आयोजित की गई थी, जिसमें करीब 1 लाख 48 हजार स्टूडेंट्स शामिल हुए। कक्षा 5 से 10 तक के लिए यह परीक्षा 9 व 16 अक्टूबर को हुई थी। इसके लिए पूरे देश को सात जोन में विभाजित किया गया।

फिट रहो, जीत के लिए खेलो
कार्यक्रम में फुटबॉलर बाइचुंग भूटिया ने सफलता का मंत्र देते हुए कहा कि कोटा देश के स्टूडेंट्स को बेस्ट कोचिंग दे रहा है। उनका कॅरियर बना रहा है। एलन जैसे कोचिंग देश के विद्यार्थियों के सपने पूरे कर रहा है। स्टूडेंट्स को अच्छी पढ़ाई के साथ-साथ फिट रहने पर भी फोकस रहना चाहिए। हम सभी खेल रहे हैं और जीतने के लिए खेलना है। खेल से बहुत कुछ सीखने को मिलता है। विशेष रूप से फुटबाल की बात करें तो सबसे बड़ी सीख मिलकर चलना होता है।

उन्होंने कहा कि किसी भी टीम को अकेला खिलाड़ी मैच नहीं जिता सकता। इसके लिए सभी का योगदान जरूरी होता है। इसी तरह आपकी सफलता में भी टीम एफर्ट चाहिए। आपके माता-पिता अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं। आपकी फेकल्टीज आपको बेस्ट दे रही है। आपको यहां कॅरियर सिटी कोटा में अच्छा माहौल मिल रहा है। अब आपको बॉल गोल पोस्ट में डालनी है। अपना बेस्ट देने की कोशिश करें, तो सफलता तय है।

भूटिया ने दोपहर बाद कोचिंग स्टूडेंट्स से संवाद भी किया। इस दौरान विद्यार्थियों ने भुटिया से सवाल भी किए। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि पढ़ाई हो या खेल, स्मार्टनेस होना जरूरी है। हम जितने स्मार्ट तरीके से खेलेंगे या पढ़ेंगे उतने ही अच्छे आयाम स्थापित करेंगे। इस दौरान अपनी मोटिवेशनल टॉक देते हुए कहा कि जीवन में एक लक्ष्य लें और उसके लिए पूरे मन से मेहनत करें। कोई भी बाधा आए हमें हमारे लक्ष्य पर अडिग रहना है। कठोर साधना और तपस्या के बाद जरूर सफलता मिलती है।

ये रहे नेशनल टॉपर
टैलेंटेक्स-2022 में कक्षा 5 में आयुष्मान पधे, कक्षा 6 में रोहान मोहंती, कक्षा 7 में प्रद्युम्न अग्रवाल, कक्षा 8 में चिंरजीब कर, कक्षा 9 में अरनब सिंह तथा कक्षा 10 में अवनेश शुभम प्रधान रैंक-1 रहे। टैलेंटेक्स-2023 में कक्षा 5 में चिरंतन सेतुपति, कक्षा 6 में प्रदीप्त हजरा, कक्षा 7 में आर्य माजी, कक्षा 8 में प्रणीत माथुर, कक्षा 9 में मसूर अहमद खान, कक्षा 10 में रजित गुप्ता रैंक-1 रहे। कक्षा 5 से 7 तक के टॉपर्स को 50 हजार कैश, गोल्ड मैडल व सर्टिफिकेट दिए गए।

कक्षा 8 से 10 तक के टॉपर्स को 1 लाख रुपए, गोल्ड मैडल तथा सर्टिफिकेट दिए गए। इसी तरह रैंक-2 पर रहने वाले कक्षा 5 से 7 तक के टॉपर्स को 35 हजार रुपए, गोल्ड मैडल तथा सर्टिफिकेट दिए गए। कक्षा 8 के दूसरे टॉपर को 40 हजार, मैडल और सर्टिफिकेट, कक्षा 9 के दूसरे टॉपर को 50 हजार तथा कक्षा 10 के दूसरे टॉपर को 75 हजार, गोल्ड मैडल व सर्टिफिकेट दिए गए।

कक्षा 5 से 7 तक को तीसरे टॉपर में 35 हजार रुपए, गोल्ड मैडल व सर्टिफिकेट, कक्षा 8 के तीसरे टॉपर को 40 हजार रुपए, कक्षा 9 के तीसरे टॉपर को 50 हजार तथा कक्षा 10 के तीसरे टॉपर को 75 हजार रुपए के साथ गोल्ड मैडल व सर्टिफिकेट दिए गए। टैलेंटेक्स में देशभर में शामिल हुए विद्यार्थियों में से दोनों वर्षों में 4750 प्रतिवर्ष के हिसाब से 9500 विद्यार्थियों को कैश प्राइज दिए गए।

सक्सेस पॉवर सेशन आयोजित
कार्यक्रम की शुरूआत सक्सेस पॉवर सेशन के साथ हुई, जिसमें एलन के सीनियर वाइस प्रसीडेंट पंकज बिरला, सीआर चौधरी, वाइस प्रसीडेंट तुषार पारेख ने सम्बोधित किया। इस दौरान स्टूडेंट्स को एलन द्वारा आयोजित की गई। परीक्षा टैलेंटेक्स का महत्व बताते हुए भविष्य में किस-किस क्षेत्र में क्या-क्या संभावनाएं हैं इस बारे में बताया गया। साइंस में किन क्षेत्रों में किन संस्थानों में बेहतर पढ़ाई हो सकती है इसकी जानकारी दी।