बैंकों की सख्ती से बिटकॉइन ट्रेडिंग की हालत खस्ता

0
12

बेंगलुरु। देश के बिटकॉइन एक्सचेंजों पर पिछले दो महीनों में वॉल्यूम 90 पर्सेंट तक कम हो गया है। यहां क्रिप्टोकरंसी को लीगल नहीं माना जाता। रिजर्व बैंक ने एक्सचेंजों के अकाउंट्स बंद करने का निर्देश नहीं दिया है, लेकिन बैंकों की सख्ती के चलते उनकी हालत खराब हो गई है। बैंक बिटकॉइन एक्सचेंजों के ट्रेडिंग अकाउंट्स बंद कर रहे हैं।

बिटकॉइन एक्सचेंज कॉइनश्योर के सीईओ मोहित कालरा ने बताया, ‘सभी भारतीय एक्सचेंजों पर बिटकॉइन के वॉल्यूम में 90 प्रतिशत से अधिक की गिरावट आई है।’ उन्होंने कहा, ‘पिछले दिसंबर में हमारे एक्सचेंज पर वॉल्यूम रोजाना 300-400 बिटकॉइन का था, जो अब घटकर 30-40 बिटकॉइन रह गया है।’

दिसंबर में इनकम टैक्स अधिकारियों ने 9 बिटकॉइन एक्सचेंजों के ऑफिस को सर्च किया था। उनसे एक्सचेंज पर ट्रेडिंग करने वाले ग्राहकों के बारे में जानकारी मांगी गई थी। इसके बाद इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने 1 लाख नोटिस भेजे थे। ये नोटिस उन लोगों को भेजे गए थे, जो बिटकॉइन में काफी ट्रेडिंग कर रहे थे।

एसबीआई, एचडीएफसी बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक, सिटी बैंक और आईसीआईसीआई बैंक ने बिटकॉइन एक्सचेंजों के ट्रेडिंग अकाउंट बंद कर दिए हैं। एचडीएफसी बैंक और सिटी बैंक कस्टमर्स को नोटिफिकेशन भेजकर बता रहे हैं कि उनकी तरफ से इशू किए गए क्रेडिट, डेबिट और प्रीपेड कार्ड का इस्तेमाल बिटकॉइन जैसी क्रिप्टोकरंसी खरीदने या उनमें ट्रेडिंग के लिए नहीं किया जा सकता।

हालांकि, इस बारे में ईमेल से पूछे गए सवालों का इनमें से किसी ने जवाब नहीं दिया। अंतरराष्ट्रीय बाजार में जेपी मॉर्गन चेज, बैंक ऑफ अमेरिका और सिटीग्रुप ने फरवरी में क्रेडिट कार्ड से क्रिप्टोकरंसी की खरीदारी पर रोक लगा दी थी। उन्हें डर था कि वर्चुअल करंसी की वैल्यू में गिरावट के बाद ग्राहक कार्ड पर बकाया रकम पर डिफॉल्ट कर सकते हैं।

बिटकॉइन इंडस्ट्री से जुड़े एग्जिक्युटिव्स का कहना है कि देश के बैंक जो कदम उठा रहे हैं, उससे उनके कामकाज पर बुरा असर पड़ा है। ब्लॉकचेन ऐंड क्रिप्टोकरंसी कमिटी ऑफ इंडिया (बीएसीसी) के हेड अजीत खुराना ने कहा, ‘बैंक इस मामले में अपनी हदें लांघ रहे हैं।’

उन्होंने कहा कि रिजर्व बैंक या किसी रेग्युलेटर के कहे बिना हमसे एक्सचेंज बंद करने को कहा जा रहा है। खुराना ने कहा, ‘बैंक हमें यह लिखकर देने को भी तैयार नहीं हैं कि उनके कदमों का हमारे बिजनस पर असर पड़ रहा है।’

एक और भारतीय एक्सचेंज Bixoxo के सीईओ एच रहमान ने कहा, ‘हमारे ग्राहकों को पैसा नहीं मिल पा रहा है। इससे वे घबरा गए हैं। एक्सचेंज के बैंक अकाउंट बंद कर दिए गए हैं। इसलिए हम भी पैसा नहीं निकाल पा रहे हैं। इससे हमारे कस्टमर्स के विदड्रॉल में एक हफ्ते तक की देरी हो रही है। इसमें हमारी कोई गलती नहीं है।’