जयललिता की सीट पर निर्दलीय दिनाकरण जीते

0
17

नई दिल्ली/चेन्नई । 4 राज्यों की 5 विधानसभा सीटों पर हुए बाइपोल के नतीजे रविवार को सामने आए। इनमें से 3 सीटों पर बीजेपी को जीत मिली। तमिलनाडु की आरके नगर सीट पर निर्दलीय कैंडिडेट टीटीवी दिनाकरण ने एआईएडीएमके के ई. मधुसूदनन को 40 हजार से ज्यादा वोट से हराया।

दिनाकरण, शशिकला के भतीजे हैं। इस सीट से पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता चुनाव लड़ती थीं। उधर, यूपी में सिकंदरा और अरुणाचल में लिकाबाली, पक्के-केसांग सीट बीजेपी की झोली में गईं। वहीं, पश्चिम बंगाल में सबांग सीट पर टीएमसी कैंडिडेट गीता रानी भूनिया को बड़ी जीत मिली।

इन सीटों के नतीजों का हुआ एलान

1. तमिलनाडु:आरके नगर सीट पर निर्दलीय दिनाकरण जीते
-आरके नगर सीट के बाइपोल नतीजों में निर्दलीय कैंडिडेट टीटीवी दिनाकरण ने एआईएडीएमके कैंडिडेट मधुसूदनन को हराया। शुरुआते राउंड से ही उन्हें लीड मिली, जो आखिरी दौर में 40,707 वोट तक पहुंच गई।

– आखिरी राउंड की गिनती के बाद दिनाकरण को 89,013 और मधुसूदनन को 48,306 वोट मिले। वहीं, डीएमके के एन. मारुथुगणेश को 24,651 वोट मिले। बीजेपी कैंडिडेट कारू नागराजन से दो गुना ज्यादा वोट नोटा को गए।

– बता दें कि पिछले साल जयललिता के निधन के बाद आरके नगर सीट खाली हुई थी। शशिकला ने इस सीट पर दावेदारी जताई थी लेकिन उन्हें और दिनाकरण को पार्टी से बाहर कर दिया गया। 21 दिसंबर को हुए बाइपोल में रिकॉर्ड 77.68% वोट पड़े थे। 2015 के बाइपोल में जयललिता ने 1.5 लाख वोट से जीत दर्ज की थी।
अम्मा की दुआएं मेरे साथ

– दिनाकरण ने कहा, “आरके नगर सीट को अम्मा रिप्रेजेंट करती थीं। वोटर्स ने बता दिया है कि पार्टी सिम्बल और पार्टी किसके पास रहनी चाहिए। सपोर्ट के लिए लोगों का शुक्रिया अदा करता हूं। मैं निर्दलीय कैंडिडेट के तौर पर चुनाव लड़ा, लेकिन पूरी एआईएडीएमके साथ है। अम्मा की दुआएं भी मेरे साथ ही हैं। अगले 3 महीनों में ये सरकार नहीं रहेगी।”

2. अरुणाचल: दोनों सीटों पर BJP का कब्जा
– अरुणाचल प्रदेश की लिकाबाली और पक्के-केसांग सीट पर हुए बाइपोल में बीजेपी को जीत मिली। दोनों सीटों पर जीत के साथ ही बीजेपी के कुल 49 विधायक हो गए हैं।

– पक्के-केसांग सीट पर बीजेपी के बीआर वाघे को 475 वोट से जीत मिली। उन्होंने कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे पूर्व डिप्टी सीएम कमेंग डोलो को हराया। वाघे को 3517 और डोलो को 3042 वोट मिले। यहां 21 दिसंबर को 86% वोट पड़े थे।

– दूसरी ओर, लिकाबाली सीट पर बीजेपी के कार्दो नियोग्योर ने पीपीए कैंडिडेट गुमका रिबा को 305 वोट से हराया। यहां बीजेपी 3461 और पीपीए को 3156 वोट मिले। कांग्रेस कैंडिडेट सिर्फ 362 वोट ही हासिल कर पाए। यहां बाइपोल में 51% वोटिंग हुई थी।

– बता दें कि इस जीत के साथ 60 मेंबर वाली अरुणाचल विधानसभा में बीजेपी के विधायकों की संख्या 49 हो गई है। वहीं, पीपीए के 9, कांग्रेस और निर्दलीय के एक-एक मेंबर हैं।

3. उत्तर प्रदेश: सिकंदरा सीट पर BJP ने सपा को हराया
– कानपुर देहात की सिकंदरा सीट पर बीजेपी के अजीत पाल ने समाजवादी पार्टी की कैंडिडेंट सीमा सचान को 11861 वोट से हरा दिया। सीमा पूर्व विधायक राकेश सचान की पत्नी हैं। कांग्रेस के प्रभाकर पांडेय तीसरे नंबर पर रहे। बीएसपी ने इस बार यहां चुनाव नहीं लड़ा।

– बता दें कि बीजपी विधायक मथुरा पाल के निधन से सिकंदरा सीट खाली हुई थी। पार्टी ने उनके बेटे अजीत को मैदान में उतारा। बाइपोल में इस बार यहां 53% वोटिंग हुई थी।

4. पश्चिम बंगाल: सबांग में तृणमूल कांग्रेस की जीत
– सबांग सीट पर टीएमसी ने 64 हजार वोट से जीत दर्ज की। ममता बनर्जी की पार्टी कैंडिडेट गीता रानी भूनिया को 1,06,179 वोट मिले। वहीं, मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (CPM) कैंडिडेट रीता मंडल को 41,987 वोट ही हासिल हुए।

बीजेपी कैंडिडेट अंतरा भट्टाचार्य 37,476 वोट के साथ तीसरे नंबर पर रहीं। 2016 के विधानसभा चुनाव के मुकाबले बाइपोल में पार्टी का प्रदर्शन सुधरा है। तब यहां बीजेपी को सिर्फ 5 हजार वोट ही मिले थे।

– कांग्रेस कैंडिडेट चिरंजीब भौमचिक 18,060 वोट के साथ चौथे स्थान पर रहे। यहां पिछले इलेक्शन में कांग्रेस विधायक मनास भूनिया ने टीएमसी को हराया था, लेकिन बाद में उनके राज्यसभा सांसद बनने पर सीट खाली हो गई थी। चुनाव जीतने वाली गीता रानी मनास की पत्नी हैं।