आयकर विभाग का नया पोर्टल शुरू, रिफंड के लिये नहीं करना पडेगा ज्यादा इंतजार

0
291

नई दिल्ली। टैक्सपेयर्स (Taxpayers) को अब आईटी रिफंड के लिए ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ेगा। आयकर विभाग (Income Tax Department) की नई वेबसाइट www.incometax.gov.in लॉन्च हो गई है। इससे टैक्सपेयर्स को आईटीआर भुगतान (ITR payment) में आसानी होगी। साथ ही इसमें कई और आधुनिक सुविधाएं भी जोड़ी गई हैं। आयकर विभाग का कहना है कि नया पोर्टल अधिक यूजर फ्रेंडली है और इसमें कई नए फीचर जोड़े गए हैं।

नया पोर्टल सोमवार से लाइव हो गया है। हालांकि इस पोर्टल पर नई कर भुगतान प्रणाली 18 जून से शुरू होगी। विभाग का दावा है कि नई वेबसाइट अधिक यूजर फ्रेंडली है जिससे आईटीआर फाइल करने में आसानी होगी और रिफंड भी जल्दी मिलेगा। सभी ट्रांजेक्शन, अपलोड और पेंडिंग एक्शन एक ही डैशबोर्ड पर दिखेंगे, ताकि यूजर उसे रिव्यू कर सकें और जरूरत के हिसाब से एक्शन ले सकें। यानी इससे आईटीआर फाइल करना, उसे रिव्यू करना और कोई एक्शन लेना आसान हो जाएगा।

क्या-क्या सुविधाएं होंगी
ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही स्थितियों के लिए आईटीआर के लिए तैयारी करने का सॉफ्टवेयर मुफ्त में उपलब्ध है। इसमें करदाताओं को असिस्ट करने की सुविधा भी होगी और प्री-फाइलिंग का विकल्प भी मिलेगा, ताकि कम से कम डेटा एंट्री करनी पड़े। डेस्कटॉप पोर्टल की सभी जरूरी सुविधाएं मोबाइल ऐप पर भी उपलब्ध होंगी। नए पोर्टल में एक नया टैक्स पेमेंट सिस्टम लाया जाएगा, जिसमें भुगतान के कई विकल्प होंगे, जैसे नेट बैंकिंग, यूपीआई, आरटीजीएस, एनईएफटी आदि।

ई-फाइलिंग पोर्टल की कुछ खास बातें

  • नए ई-फाइलिंग पोर्टल में तुरंत इनकम टैक्‍स रिटर्न प्रोसेस (ITR Processing) करने की सुविधा होगी। इससे टैक्‍सपेयर्स को जल्‍दी रिफंड (Tax Refund) जारी हो सकेगा।
  • टैक्‍सपेयर्स के लिए पोर्टल पर लॉगिन के बाद एक डैशबोर्ड दिखेगा, जहां पर सभी तरह की जरूरी जानकारी, अपलोड, पेंडिंग काम आदि दिखाई देगा।
  • टैक्‍सपेयर्स को मुफ्त में इनकम टैक्‍स रिटर्न तैयार करने के लिए सॉफ्टेवयर मिल सकेगा। यह ऑनलाइन और ऑफलाइन उपलब्‍ध होगा। इस सॉफ्टवेयर में टैक्‍सपेयर्स के लिए FAQ के जवाब के अलावा और कई तरह की जानकारियां और टूल्‍स होंगे। इनकी मदद से कोई भी टैक्सपेयर टैक्‍स फाइल कर सकेगा।
  • नए पोर्टल पर एक नया ऑनलाइन टैक्‍स पेमेंट सिस्‍टम लाया जाएगा, जिसमें टैक्‍सपेयर्स को नेट बैंकिंग, यूपीआई, क्रेडिट कार्ड और RTGS/NEFT आदि के जरिए पेमेंट की सुविधा होगी। साथ ही करदाता किसी भी बैंक अकांउट से पेमेंट कर सकेगा।
  • टैक्‍सपयेर्स की मदद के लिए नया कॉल सेंटर भी बनाया जा रहा है, जहां FAQs, ट्यूटोरियल्‍स, वीडियो और चैटबॉट/लाइव एजेंट्स की मदद से टैक्‍स रिटर्न फाइल करने में मदद ले सकते हैं।
  • डेस्कटॉप पर उपलब्‍ध सभी टैक्‍स ई-फाइलिंग पोर्टल फंक्‍शन्‍स को मोबाइल ऐप पर भी उपलब्‍ध कराया जाएगा। इसे किसी भी मोबाइल नेटवर्क पर किसी भी समय शुरू किया जा सकेगा।