कृषि आदानों पर जीएसटी शून्य करने की पैरवी करे राजस्थान सरकार

92

भारतीय किसान संघ ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर किया अनुरोध

कोटा। भारतीय किसान संघ ने कृषि आदानों पर जीएसटी शून्य करने की मांग का समर्थन करने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखा है। भारतीय किसान संघ चित्तौड़ प्रांत के प्रचार प्रमुख आशीष मेहता ने बताया कि 18 फरवरी को होने वाली जीएसटी कौंसिल में मुख्यमंत्री से किसानों का पक्ष रखने का अनुरोध किया है।

उन्होंने पत्र में कहा कि भारत सरकार ने 2018 से देशभर में सभी उत्पादकों के लिए जीएसटी कानून के आधार पर टैक्स लागू किया है। इसी कानून और जीएसटी कौंसिल के निर्णय के अनुसार पशु या मनुष्य शक्ति चालित कृषि यंत्र के ऊपर जीएसटी लागू नहीं होगी। लेकिन आगे चलकर जितने भी आदान कृषि में उपयोग होते हैं, उनके ऊपर 5.28 प्रतिशत तक टैक्स लागू हो रहा है।

कानूनी व्यवस्था के अंतर्गत सभी उत्पादकों को इनपुट टेक्स क्रेडिट मिलता है, लेकिन किसानों को इनपुट टेक्स क्रेडिट मिलने की कोई व्यवस्था नहीं है। उन्होंने कहा कि जीएसटी कौंसिल किसानों के साथ जानबूझकर अन्याय करते हुए सौतेला व्यवहार कर रही है।

प्रदेश मंत्री जगदीश कलमंडा ने कहा कि खेती विशेषकर राज्य का विषय है। अलग अलग प्रदेशों में भिन्न भिन्न आदानों का उपयोग होता है। प्राप्त जानकारी के अनुसार जीएसटी कौंसिल की बैठक होने वाली है। जिसमें राजस्थान प्रदेश भी सदस्य है। ऐसे में मुख्यमंत्री जो वित्तमंत्री भी हैं। इस बैठक में किसानों की इस मांग का समर्थन करें।