गोबर धन के लिए ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफार्म बनेगा : मोदी

0
13

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मोदी ने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में 41वें संस्करण में विज्ञान दिवस, महिला दिवस और होली पर बात की। कचरे से कनक बनाने और कूड़े से ऊर्जा सृजित करने पर जोर देते हुए मोदी ने कहा कि गोबर धन योजना की सुचारू व्यवस्था के लिए ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफार्म बनेगाा। यह किसानों को खरीदारों से जोड़ेगा। इससे किसानों को गोबर तथा फसल अवशेषों का उचित दाम मिलेंगे।

जन हित में हो तकनीक का इस्तेमाल
मोदी ने कहा कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल मानव कल्याण और मानव जीवन की सर्वोच्च ऊंचाइयां छूने के लिए होना चाहिए। इसका इस्तेमाल दिव्यांगों का जीवन सुगम बनाने में करना चाहिए। किसानों के लिए होना चाहिए।

सबल नारी है न्यू इंडिया का सपना
मोदी ने कहा कि सशक्त, सबल और देश के समग्र विकास में बराबर भागीदार नारी ही न्यू इंडिया का सपना है। देश महिला विकास से आगे महिला नेतृत्व की ओर बढ़ रहा है।

ज्यादातर दुर्घटनाएं हमारी गलती से
मोदी ने कहा- प्राकृतिक आपदाओं के अलावा ज्यादातर दुर्घटनाएं, हमारी गलती का परिणाम होती हैं। सड़क और कार्य क्षेत्र में सुरक्षा से जुड़े बहुत सूत्र लिखे होते हैं, लेकिन उनका पालन कहीं नहीं दिखता।

एक सवाल ने महान वैज्ञानिक दिया
मोदी ने भारत रत्न सर सीवी रमन को भी याद किया। बोले- क्या हमने कभी सोचा है कि नदी हो या समुद्र हो, इसमें पानी का रंग रंगीन क्यों हो जाता है? यही प्रश्न 1920 के दशक में भारत के एक महान वैज्ञानिक को जन्म दिया।

48 साल के विकास की तुलना 48 महीने से करें: मोदी
पीएम मोदी प्रधानमंत्री बनने के बाद रविवार को पहली बार पुडुचेरी पहुंचे। यहां मोदी ने आध्यात्मिक गुरु श्री अरबिंदो के आश्रम में उन्हें श्रद्धांजलि दी। इसके बाद एक रैली में मोदी ने कहा कि यह दिव्य लोगों का शहर है। पुडुचेरी के पास रिसोर्स की कमी नहीं है, फिर भी इसके विकास में कमी रह गई।

कांग्रेस पर हमला बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि एक परिवार ने देश पर 48 साल तक राज किया। पिछले 10 साल तो रिमोट कंट्रोल से सरकार चलाई। हमारी सरकार के इस साल मई में 48 महीने पूरे होंगे, विकास के लिहाज से इनकी 48 साल से तुलना करें।

पता चलेगा आपने क्या खोया। हमें 1947 में आजादी मिली। हम विकास के मामले में दुनिया के बाकी देशों की बराबरी नहीं कर पाए, जो हमारे साथ आजाद हुए थे। प्रधानमंत्री मोदी रविवार को पुडुचेरी में थे। उन्होंने 41वीं बार मन की बात की। इस बार पूर्व वैज्ञानिकों के योगदान को याद किया।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तमिलनाडु के मातृ मंदिर भी पहुंचे।