राजस्थान में 1 मई से सिर्फ 11 जिलों में 18-45 आयुवर्ग के लोगों को लगेगी वैक्सीन

0
425

जयपुर। राजस्थान में 18 से 45 एज ग्रुप के लोगों का सरकार 1 मई से वैक्सीनेशन करवाएगी। ये वैक्सीनेशन पूरे राज्य के 33 जिलों में न होकर ज्यादा संक्रमण वाले सिर्फ 11 जिलों में ही करवाया जाएगा। यानी इन 11 जिलों में ही 18 से 45 वालों को सरकार कोरोना टीका लगाएगी।

खास बात यह है कि राज्य सरकार के इस निर्णय से कुछ घंटे पहले चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने वैक्सीन की कमी के चलते ज्यादा संक्रमण वाले 9 जिलों में 35 से 45 एज ग्रुप के लोगों का ही वैक्सीनेशन कराने की बात कही थी। यानी सरकार ने 4 घंटे बाद ही अपना फैसला बदल लिया।

शुक्रवार सुबह मीडिया से बातचीत में चिकित्सा मंत्री शर्मा ने कहा कि प्रदेश में 18 से 45 साल की उम्र के करीब 3.25 करोड़ लोग हैं, जिन्हें वैक्सीन लगनी हैं। राज्य सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट को 3.75 करोड़ वैक्सीन का ऑर्डर दिया है। कंपनी ने आगामी एक-दो दिन में केवल 3 लाख डोज ही देने की बात कही है।

ऐसे में समस्या ये खड़ी हो रही है कि इतनी-सी वैक्सीन इतनी बड़ी संख्या में लोगों को कैसे लगाई जाएगी। ऐसे में हम यह विचार कर रहे हैं कि वैक्सीन की खेप आने के बाद इसे उन 9 बड़े जिलों में भिजवाया जाए, जहां कोरोना के सबसे ज्यादा केस आ रहे हैं। इन जिलों में 35 से 45 साल की उम्र के लोगों को पहले वैक्सीन लगा दी जाए।

प्रेसनोट जारी करके फैसला बदला
लेकिन इस बयान के चार घंटे बाद ही चिकित्सा विभाग ने मंत्री के हवाले से प्रेसनोट जारी किया। इसमें कहा गया कि 1 मई से 18 से 44 उम्र के लोगों का भी वैक्सीनेशन किया जाएगा, लेकिन वैक्सीनेशन केवल उन 11 जिलों में ही होगा, जहां संक्रमित केस ज्यादा आ रहे हैं।

इन 11 जिलों में होगा वैक्सीनेशन
राजस्थान में एक मई से जयपुर, जोधपुर, उदयपुर, कोटा, अलवर, भीलवाड़ा, बीकानेर, सीकर, अजमेर, धौलपुर और पाली जिले में वैक्सीनेशन होगा। ऐसे में इन जिलों में शनिवार से 18 से 45 साल के लोगों को टीके लगने शुरू हो जाएंगे।

7 करोड़ डोज की आवश्यकता
चिकित्सा मंत्री ने कहा कि प्रदेश में 18-45 वर्ष आयुवर्ग के करीब 3.25 करोड़ लोग है। इसलिए प्रदेश को 7 करोड़ वैक्सीन डोज की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि वैक्सीन नहीं मिलने के कारण फिलहाल सभी का वैकसीनेशन नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार से वैक्सीन मिलने के साथ ही प्रदेश में वैक्सीनेशन का कार्य प्रारंभ कर दिया जाएगा।

7 लाख इंजेक्शन प्रतिदिन लगाने का तंत्र विकसित
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि वर्तमान में 7 लाख इंजेक्शन प्रतिदिन लगाने का तंत्र विकसित किया जा चुका है, जिसे और भी बढ़ाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि विभाग ने 5 लाख 80 हजार वैक्सीन एक दिन में लगाए थे। उन्होंने कहा कि 45 से अधिक उम्र के लोग करीब 2 करोड़ 9 लाख हैं। इनमें से भी कई लोगों को दूसरा डोज लगाना बाकी है।