कोरोना के डर से सेंसेक्स 1707 अंक गिर कर बंद, निवेशकों के 8 लाख करोड़ डूबे

0
248

मुंबई। कोरोना के डर से सोमवार को शेयर बाजार भारी गिरावट के साथ बंद हुआ। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 1707.94 अंक यानी 3.44 फीसदी नीचे 47883.38 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 524.05 अंक यानी 3.53 फीसदी की गिरावट के साथ 14310.80 के स्तर पर बंद हुआ। इससे निवेशकों के 8.4 लाख करोड़ रुपए डूब गए। इससे पहले 29 जनवरी को इंडेक्स 48 हजार के नीचे 46,285 अंकों पर बंद हुआ था।

सोमवार सुबह सेंसेक्स 634.67 अंक नीचे 48,956.65 पर खुला। अभी यह 1,747 अंकों की भारी गिरावट के साथ 47,843 पर कारोबार कर रहा है। सेंसेक्स में शामिल 30 में से 29 शेयरों में गिरावट है। इंडेक्स में इंडसइंड बैंक का शेयर सबसे ज्यादा 8.1% नीचे आ गया है। वहीं, डॉ. रेड्डीज का शेयर 3.3% ऊपर चढ़ गया है।

शेयर बाजार में गिरावट की 3 वजह

  1. देश में लगातार कोरोना के नए केस बढ़ रहे हैं। पिछले 24 घंटे में एक लाख 69 हजार 914 मामले सामने आए। यह देश में एक दिन में मिलने वाले संक्रमितों का सबसे बड़ा आंकड़ा है।
  2. एशियाई शेयर बाजारों में गिरावट है। इनमें चीन का शंघाई कंपोजिट, हॉन्गकॉन्ग का हेंगसेंग शामिल हैं। इसी तरह जापान का निक्केई इंडेक्स भी गिरावट के साथ कारोबार कर रहा है।
  3. चौथी तिमाही के नतीजों से पहले निवेशक नर्वस हैं। लगातार दो तिमाहियों में अच्छे रिजल्ट के बाद चौथी तिमाही के दौरान कोरोना का असर देखने को मिल सकता है इसीलिए निवेशक निवेश से पहले सतर्क हैं।

बैंकिंग शेयरों में 13% तक की गिरावट
आज की भारी गिरावट में बैंकिंग सेक्टर के शेयर सबसे आगे हैं। निफ्टी बैंक इंडेक्स 1,754 पॉइंट यानी 5.4% नीचे 30,693 पर आ गया है। RBL बैंक का शेयर 10% नीचे कारोबार कर रहा है। सरकारी बैंकों के शेयरों में 11% की गिरावट आई तो प्राइवेट बैंक के शेयर भी 10% तक टूटे हैं। बैंकिंग शेयरों में गिरावट की मुख्य वजह लॉकडाउन है, क्योंकि इससे बैंकिंग कारोबार पर असर पड़ रहा है।

लॉकडाउन का बाजार पर असर
ऑटो और मेटल शेयरों में भी भारी गिरावट है। NSE पर दोनों के इंडेक्स 5% नीचे आ गए हैं। हालांकि, फार्मा शेयरों ने अपनी बढ़त कायम रखी है। सिप्ला के शेयर में 3% से ज्यादा की गिरावट है। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए कई राज्यों में जगह-जगह लॉकडाउन लगाया जा रहा है। इससे इकोनॉमिकल एक्टिविटीज पर बुरा असर पड़ रहा है। नतीया यह है कि बाजार में चौतरफा गिरावट है।