दक्षिण कोरिया से बिना शुल्क सोना आयात की सुविधा खत्म

0
50
  • मुक्त व्यापार समझौते के तहत इस सुविधा का किया जा रहा था दुरुपयोग

  • दक्षिण कोरिया से जुलाई से 27 टन सोने का शुल्क मुक्त आयात हुआ

  • शुल्क चुकाकर किया गया आयात लगभग रुक गया है और संगठित कारोबार बुरी तरह प्रभावित हुआ

मुंबई। विदेश व्यापार महानिदेशक ने सोने, चांदी और इन कीमती धातुओं के सिक्कों एवं वस्तुओं के शुल्क मुक्त आयात की सुविधा खत्म करने की अधिसूचना जारी की है। इस सुविधा का जुलाई से दक्षिण कोरिया से शुल्क मुक्त आयात के लिए दुरुपयोग किया जा रहा था। अब सरकार ने तत्काल प्रभाव से ऐसे आयात पर रोक लगा दी है।

 डीजीएफटी ने एक अधिसूचना जारी कर दक्षिण कोरिया के साथ 2009 में किए गए मुक्त व्यापार समझौते के तहत सोने, चांदी और उनसे बनी वस्तुओं के बिना किसी शुल्क के आयात की सुविधा खत्म कर दी है।

जीएफएमएस थॉमसन रॉयटर्स के प्रमुख विश्लेषक (कीमती धातु मांग) सुधीश नांबियथ ने कहा, ‘दक्षिण कोरिया से जुलाई से करीब 27 टन सोने का बिना किसी शुल्क के आयात हुआ है।

शुरुआत में कुछ आयातक आयात कर रहे थे और जुलाई में इस रास्ते से 10 टन सोने का आयात हुआ, लेकिन अगस्त के पहले तीन सप्ताह में 17 टन का आयात हुआ।

आयातित वस्तुओं में सोने के आभूषण और सिक्कों एवं मेडल जैसी वस्तुएं शामिल हैं। उन्होंने कहा कि छोटे-बड़े 25 आयातकों ने इस सुविधा के तहत सोने का आयात किया है। 

यह अधिसूचना इस समय इसलिए जारी की गई है क्योंकि यह इस सुविधा के दुरुपयोग का मामला था और मुक्त व्यापार समझौते की भावना का उल्लंघन था। कथित रूप से 90 फीसदी आयात शीर्ष 5 आयातकों ने किया है।

आयातक आयातित वस्तुओं या विभिन्न कस्टम कोड्स के तहत घोषणाओं को लगातार बदलते रहते हैं। शुल्क मुक्त आयात की वजह से भारतीय सराफा बाजार में सोना आयातित कीमत से 20 डॉलर प्रति औंस (425 रुपये प्रति 10 ग्राम) कम पर बिक रहा था। इसके नतीजतन शुल्क चुकाकर किया गया आयात लगभग रुक गया है और संगठित कारोबार बुरी तरह प्रभावित हुआ है।