भारत का चीन को इंजीनियरिंग निर्यात बढ़कर 123 फीसद हुआ

0
34

नई दिल्ली। अप्रैल से जून तिमाही के दौरान चीन में भारत के इंजीनियरिंग सामानों के निर्यात में 123 फीसद का इजाफा हुआ है। इस इजाफे के साथ यह 629 मिलियन डॉलर के स्तर पर पहुंच गया। यह इजाफा नॉन-फेरस मैटल के शिपमेंट में हुई बढ़ोतरी के कारण दिखा है। यह जानकारी ट्रेड बॉडी ईईपीसी इंडिया के जरिए सामने आई है। 

पिछले वित्त वर्ष की अप्रैल-जून तिमाही में चीन को देश का निर्यात 282 मिलियन (28.2 करोड़) डॉलर रहा था। यह इजाफा इस मायने में महत्वपूर्ण है क्योंकि भारत का चीन के साथ व्यापारिक घाटा बड़े स्तर पर बढ़ा है, जो कि बीते साल 46.56 बिलियन डॉलर रहा है।

ऐसा इसलिए क्योंकि भारतीय निर्यात में गिरावट जारी है, जबकि द्विपक्षीय व्यापार में मामूली रूप से 2.1 फीसद की गिरावट आई और यह लगभग 71 अरब डॉलर रहा है।

कॉमर्स मिनिस्ट्री के डेटा के मुताबिक जून में भारत का कुल निर्यात 4.39 फीसद बढ़कर 23.56 बिलियन डॉलर रहा है। वित्त वर्ष 2017-18 की पहली तिमाही में शिपमेंट 10.57 फीसद बढ़कर 72.21 बिलियन डॉलर हो गया, जबकि आयात 32.78 फीसद बढ़कर 112.2 बिलियन डॉलर पर पहुंच गया (40 बिलियन डॉलर का व्यापार घाटा छोड़ने के बाद)।

वहीं भारत से चीन तक इंजीनियरिंग सामानों की शिपमेंट्स जून में कुल 234 मिलियन डॉलर की रही, जबकि बीते वित्त वर्ष की समान अवधि में यह आंकड़ा 94 मिलियन डॉलर का रहा था। 

 

 

By Praveen Dwivedi