भारत-22 ईटीएफ से 14,500 करोड़ रुपये जुटाए

0
18

नई दिल्ली। सरकार ने भारत-22 एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) के तहत पहले दौर में 14,500 करोड़ रपये जुटाए हैं। इस कोष में 22 कंपनियों के शेयर शामिल हैं।

निवेश एवं लोक संपत्ति प्रबंधन (दीपम) विभाग के सचिव नीरज गुप्ता ने कहा कि हमने भारत-22 ईटीएफ में आए कुल अभिदान में से 14,500 करोड़ रुपये को रखने का फैसला किया है। इस ईटीएफ के लिए करीब 32,000 करोड़ रुपये की बोलियां आईं।

इसमें से विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने करीब एक-तिहाई बोलियां लगाईं। खुदरा निवेशकों के लिए आरक्षित खंड को 1.45 गुना, सेवानिवृत्त कोष को 1.50 गुना और एनआईआई व क्यूआईबी को सात गुना अभिदान मिला।

इस तरह सरकार चालू वित्त वर्ष में अभी तक विनिवेश से 52,500 करोड़ रपये जुटा चुकी है जबकि लक्ष्य 72,500 करोड़ रपए का है । इसमें सार्वजनिक क्षेत्र की बीमा कंपनियों के आईपीओ में मिला धन भी शामिल है।

भारत-22 ईटीएफ में पिछले सप्ताह एंकर निवेशकों के लिए आरक्षित हिस्से पर छह गुना अभिदान मिला था। मूल्य के हिसाब से यह 12,000 करोड़ रुपये बैठता है।

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल म्यूचुअल फंड द्वारा प्रबंधित भारत-22 ईटीएफ की नई फंड पेशकश का शुरआती निर्गम आकार 8,000 करोड़ रपये था।

निर्गम के कुल आकार का 25 प्रतिशत या 2,000 करोड़ रुपये एंकर निवेशकों के लिए आरक्षित था, जिन्होंने 12,000 करोड़ रुपये के लिए बोलियां लगाईं।

बोलियां लगाने वालों में एलआईसी, बैंक आफ इंडिया, एसबीआई पेंशन फंड, ईपीएफओ और एचडीएफसी अर्गो इंश्योरेंस शामिल हैं।

नए भारत 22 ईटीएफ में जिन कंपनियों के शेयर रखे गए हैं उनमें ओएनजीसी, एनटीपीसी, एसबीआई, आईओसी, कोल इंडिया और नालको एनबीसीसी, बीपीसीएल , बीईएल , इंजीनियर्स इंडिया , एनएचपीसी, एसजेवीएनएल, गेल, पीजीसीआईएल, एनएलसी इंडिया, इंडियन बैंक व बैंक आफ बडौदा जैसी प्रमुख सार्वजनिक कंपनियों के शेयर शामिल हैं।