जुड़वां: एक बनेगा डॉक्टर ऑर दूसरा आईआईटीयन

0
627

-कोटा के मोहनलाल गोयल के जुड़वा बेटे सौरभ व सागर का जेईई एडवांस एवं नीट में चयन
कोटा। जेईई एडवांस व नीट रिजल्ट में कॅरिअर पॉइंट में अध्ययनरत विज्ञान नगर निवासी दो जुड़वा भाईयों का चयन हुआ है। गत वर्ष भी जेईई एडवांस में बिहार व उड़ीसा के दो परिवारों के जुड़वा बच्चों का चयन हुआ था। वहीं, इस वर्ष भी कोटा के विज्ञान नगर निवासी मोहनलाल गोयल के जुड़वा बेटे सौरभ व सागर ने जेईई एडवांस 2019 एवं नीट 2019 के परीक्षा परिणाम में ऑल इंडिया स्तर पर इडब्ल्यूएस जनरल वर्ग में शानदार प्रदर्शन कर सफलता अर्जित की हैं।

सौरभ ने जेईई एडवांस में 498 वीं रेंक हासिल की है, वही, सागर को नीट में र्इ्डब्ल्यूएस सामान्य वर्ग में करीब 4 हजार की रेंक मिलने के साथ ही श्रेष्ठ कॉलेज भी मिलने की पूरी उम्मीद है। स्टूडेंट सागर किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना में स्कॉलरशिप भी प्राप्त कर चुका है। यह दोनों जुड़वा भाई बेहतर कॅरिअर की उम्मीद के साथ कक्षा 9 से ही कॅरिअर पॉइंट ग्रुप से जुड़े और स्कूली शिक्षा के साथ-साथ प्रतियोगी परीक्षाओं की भी तैयारी की।

विज्ञान नगर निवासी मोहनलाल गोयल ने बताया कि वो मूलतः सांगोद के रहने वाले है और वर्तमान में कोटा के एक निजी अस्पताल में मेडिकल शॉप पर जॉब करते है। गोयल ने बताया कि वो अपने बच्चों को बेहतर एजुकेशन दिलाना चाहते है और इसके लिए उन्होंने गहन पड़ताल के बाद कॅरिअर पॉइंट को चुना और दोनों बच्चों का यहीं पर एडमिशन करवाया। पूरा परिवार कॅरिअर पॉइंट के सिस्टम से पूर्ण संतुष्ट है, इसकी वजह साफ है दोनों बच्चों का प्रतियोगी परीक्षाओं में चयन होना।

बच्चों को पढ़ाने के लिए पिता ने लिया लोन
मोहनलाल ने बताया कि उनके परिवार की आर्थिक स्थिति शुरू से ही कमजोर रही। यही वजह है कि वो खुद भी उच्च शिक्षा से वंचित रह गए। लेकिन उनके मन में बच्चों को पढ़ाने की जिद हमेशा जिंदा रही। दो जुड़वा बेटे सौरभ, सागर है। एक बड़ी बेटी भी है जिसकी बी.टेक पूरी हो चुकी है। बच्चों को बेहतर एजुकेशन मिले इसके उन्होंने बैंक से एजुकेशन लोन भी लिया है।

गोयल बताते है कि मैं तो आर्थिक हालातों के चलते उच्च शिक्षा से वंचित रहा, लेकिन बच्चों को हर हाल में बेहतर एजुकेशन देना ही जीवन का लक्ष्य है और वो इस काम में जुटे हुए है। कॅरिअर पॉइंट के सीपी स्टार से सौरभ को 90 प्रतिशत एवं सागर को 70 प्रतिशित स्कॉलरशिप मिली थी। इन्हें केवीपीवाई में भी स्कॉलरशिप मिली है। इससे भी उन्हें काफी राहत मिली। दोनों बच्चें कक्षा 9 वीं प्री-फाउंडेशन से ही कॅरिअर पॉइंट से जुड़े है।