NEET UG 2024 की फाइनल आंसर-की जारी, परिणाम 14 जून को संभावित

0
8

नई दिल्ली। NEET Final Answer Key 2024 : एनटीए ने राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा नीट यूजी की फाइनल आंसर-की जारी कर दी है। जो विद्यार्थी मेडिकल प्रवेश परीक्षा में बैठे थे, वे आधिकारिक वेबसाइट exam.nta.ac.in/NEET पर जाकर नीट यूजी की फाइनल आंसर-की डाउनलोड कर सकते हैं।

उम्मीदवार इस आंसर-की की मदद से अपने अंकों का अनुमान लगा सकते हैं। इससे पहले एनटीए ने नीट की आंसर-की 29 मई को जारी की थी जिस पर आपत्ति दर्ज कराने के लिए 1 जून तक का समय दिया गया था। प्राप्त आपत्तियों पर विचार करने के बाद फाइनल आंसर-की जारी की गई है। फाइनल आंसर-की के आधार पर ही नीट का रिजल्ट जारी किया जाएगा। परिणाम 14 जून को संभावित है।

ऐसे डाउनलोड करें उत्तर कुंजी

  • आधिकारिक वेबसाइट, exam.nta.ac.in/NEET/ पर जाएं।
  • होमपेज पर, NEET UG 2024 फाइनल आंसर की लिंक पर क्लिक करें।
  • अंतिम उत्तर कुंजी स्क्रीन पर प्रदर्शित होगी।
  • संभावित अंकों की गणना करने के लिए उत्तरों का मिलान करें।
  • भविष्य के संदर्भ के लिए इसे डाउनलोड करें और प्रिंटआउट लें।

नीट का आयोजन देश भर में 5 मई को पेन पेपर मोड में किया गया था। नीट के जरिए ही देश के तमाम मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस, बीडीएस, बीएएमस, बीएचएमस, बीयूएमस ( MBBS, BDS, BSMS, BAMS, BHMS, BUMS ) और अन्य विभिन्न अंडर ग्रेजुएट मेडिकल कोर्सेज में दाखिला होता है। इसके अलावा मिलिट्री नर्सिंग सर्विस (एमएनएस) के लिए भी अभ्यर्थी नीट यूजी परीक्षा के मार्क्स के जरिए आर्म्ड फोर्सेज मेडिकल सर्विस हॉस्पिटल के बीएससी नर्सिंग कोर्स में एडमिशन ले सकेंगे। इस बार नीट में 24 लाख विद्यार्थी बैठे थे।

नीट की टाई ब्रेकिंग पॉलिसी
परीक्षा में दो या उससे अधिक छात्रों के नंबर एक समान आने पर किसे मेरिट में ऊपर रखा जाएगा, यह टाई ब्रेकिंग पॉलिसी से ही तय होता है। इस बार छात्रों के बराबर नंबर आने पर उनकी रैंक तय करने के लिए सबसे पहले उनके बायोलॉजी के नंबर देखें जाएंगे। जिसके बायोलॉजी (बॉटनी एंड जूलॉजी) में ज्यादा मार्क्स आएंगे, उसे रैंक में ऊपर रखा जाएगा। अगर इससे फैसला नहीं हो पाता है तो केमिस्ट्री और फिर फिजिक्स के अंकों की तुलना की जाएगी।

नीट टाई ब्रेकिंग फॉर्मूला 2024
1- जिसके बायोलॉजी (बॉटनी एंड जूलॉजी) में ज्यादा मार्क्स आएंगे, उसे रैंक में ऊपर रखा जाएगा।
2- अगर बॉयोलॉजी वाले फैक्टर से रैंक तय नहीं होती तो फिर केमिस्ट्री के मार्क्स देखे जाएंगे। केमिस्ट्री में जिसके ज्यादा मार्क्स आएंगे, उसे रैंक में ऊपर रखा जाएगा।
3- इसके बाद फिजिक्स के मार्क्स देखे जाएंगे। जिसके फिजिक्स में ज्यादा मार्क्स आएंगे, उसे रैंक में ऊपर रखा जाएगा।
4- जिसने सही उत्तरों की तुलना में कम गलत उत्तर दिए होंगे, उसे ऊपर रखा जाएगा।
5- इसके बाद जिस उम्मीदवार का बायोलॉजी (बॉटनी व जूलॉजी ) में अटेम्प्टेड गलत उत्तर और सही उत्तरों का अनुपात कम होगा, उसे ऊपर रखा जाएगा।
6- इसके बाद जिस उम्मीदवार का केमिस्ट्री में अटेम्प्टेड गलत उत्तर और सही उत्तरों का अनुपात कम होगा, उसे ऊपर रखा जाएगा।
7- जिस उम्मीदवार का फिजिक्स में अटेम्प्टेड गलत का प्रतिशत कम होगा।