मंडी में कल से मिलेंगे गेहूं बेचने के लिए ऑफलाइन टोकन

0
18

कोटा| भामाशाहमंडी में एफसीआई की खरीद में बिगड़ रही व्यवस्था गुरुवार को भी पूरी तरह से नहीं सुधरी है। अभी भी गेहूं बेचने के लिए 300 से 400 किसान दो से तीन दिन से इंतजार कर रहे हैं। एफसीआई ने गुरुवार को खरीद बंद की, लेकिन अंदर पहुंचे करीब 400 किसानों में 150 किसानों यानि 35 हजार कट्टे ही खरीद हुई। हालांकि एफसीआई को गुरुवार को दो रैक मिलने की अनुमति मिल गई है।

शुक्रवार को रैक लग जाएगी और करीब 60 से 80 हजार कट्टों का लदान हो जाएगा। गुरुवार को भी भामाशाहमंडी से 70 हजार से अधिक कट्टों का लदान किया गया। अब एफसीआई उन किसानों का जिंस खरीदेगा, जो दो दिन से यहां डटे हुए हैं। उसके बाद शनिवार से ऑफलाइन टोकन जारी करेगा और सोमवार से उसी के अनुसार खरीद होगी।

इसलिए सोमवार से पहले किसान मंडी में गेहूं लेकर नहीं आए, जिससे उन्हें परेशानी का सामना नहीं करना पड़े। गेहूं लाने से पहले वे मंडी से आॅफ लाइन टोकन ले लें। वरना फिर परेशानी होगी। वहीं गुरुवार को एडीएम सुनीता डागा व डीएसओ अशोक मीणा ने भी मंडी का दौरा किया।

कलेक्टर डॉ. रोहित गुप्ता ने भी इससे संबंधित सभी अधिकारियों की मीटिंग ली। इसमें एक नया यार्ड खोलने पर बात हुई, लेकिन इस पर भी जगह कम होने से बात नहीं बन सकी। एफसीआई के क्षेत्रीय प्रबंधक पवन बोथरा ने बताया कि सेंट्रल वेयर हाउस में माल का अनलोडिंग सही तरीके से नहीं हो रहा है।

अभी भी वहां यही स्थिति बनी हुई है। इसलिए रैक की अनुमति ली है। इसके लिए रेलवे को इंडेन दिया है। शुक्रवार दोपहर के रैक लग जाएगी। दो रैक की अनुमति मिली है। फिलहाल एक ही लगा रहे हैं। दो दिन तक केवल मंडी में आए किसानों का ही गेहूं तोला जाएगा। नए किसान मंडी में ना आएं। शनिवार से वे सब ऑफ लाइन टोकन लें और उसी के अनुसार गेहूं लेकर आएं।