PNB फ्रॉड: पीएनबी, गीतांजलि जेम्‍स के ऑडिटर्स को ICAI का नोटिस

0
23

नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) में हुए करीब 11,400 करोड़ रुपए के घोटाले में इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीएआई) ने भी एक्शन लिया है। आईसीएआई ने पीएनबी और गीतांजलि जेम्‍स के ऑडिटर्स को कारण बताओ नोटिस भेजा है।

इसके अलावा, आईसीएआई ने पीएनबी के डिप्‍टी जनरल मैनेजर को तलब किया है। साथ ही रिजर्व बैंक से सरकारी बैंकों के 2000 करोड़ या इससे ज्‍यादा के बकायेदारों की लिस्‍ट मांगी है। पीएनबी फ्रॉड में सीबीआई, ईडी की तरफ से हीरा कारोबारी नीरव मोदी और गीतांजलि ग्रुप के खिलाफ कार्रवाई जारी है।

ICAI ने अब तक क्या कार्रवाई की?
1. जांच एजेंसियों, पीएनबी से मांगी डिटेल
आईसीएआई ने 15 फरवरी 2018 को सेबी, सीबीआई, ईडी और पीएनबी को लेटर लिखकर इस फॉड से जुड़े डिटेल जानकारी, रिपोर्ट और जांच के नतीजे उपलब्‍ध कराने को कहा। आईसीएआई ने इस फ्रॉड में यदि किसी सीए और सीए फर्म्‍स के संबंध सामने आए हो तो उनकी जानकारी भी मांगी है।

आईसीएआई ने मिनिस्‍ट्री ऑफ कॉरपोरेट अफेयर्स को लेटर लिखकर भी अनुरोध किया है कि वह सेबी, सीबीआई, ईडी और पीएनबी से इस फ्रॉड से जुड़ी जानकारी आईसीएआई से साझा करने के लिए कहे। जिससे कि यदि इस फ्रॉड में किसी सीए को रोल हो तो उसके खिलाफ एक्‍शल लिया जा सके।

2. सेंट्रल ऑडिटर्स को कारण बताओ नोटिस
आईसीएआई ने पीएनबी के सभी सेंट्रल सांविधिक ऑडिटर्स को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। इसी तरह, पीएनबी की तिमाही समक्षा करने वाले सेंट्रल ऑडिटर्स को भी नोटिस भेजा गया है। इसके अलावा, गीतांजलि जेम्‍स लिमिटेड के ऑडिटर्स को भी आईसीएआई ने कारण बताओ नोटिस भेजा है।

3. पीएनबी के डिप्‍टी जनरल मैनेजर को तलब
आईसीएआई ने पीएनबी के डिप्‍टी जनरल मैनेजर को भी सीए एक्‍ट 1949 के सेक्‍टशन 21सी के तहत समन जारी किया है। डिप्‍टी जनरल मैनेजर को एफआईआर की कॉपी और इस फ्रॉड से जुड़े सभी डॉक्‍यूमेंट लेकर आईसीएआई के सामने पेश होने के लिए कहा है। साथ ही इस फ्रॉड को किस मॉडल के जरिए अंजाम दिया गया इसका ब्‍योरा भी मांगा है।

4. आरबीआई से मांगी बकायेदारों की लिस्‍ट
आईसीएआई ने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) को लेटर लिखकर सरकारी बैंकों के 2000 करोड़ या इससे ज्‍यादा के बकायेदारेां की लिस्‍ट मांगी है। आईसीएआई का कहना है कि इस लिस्‍ट के जरिए वह अकाउंटिंग और ऑडिटिंग के नियमों की संभावित अनदेखी की जांच अपने फाइनेंशियल रिपोर्टिंग रिव्‍यू बोर्ड से करा सके।

क्‍या है ICAI ?
द इंस्‍टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीएआई) एक सांविधिक बॉडी है। इसका गठन चार्टर्ड अकाउंटेंट्स एक्‍ट 1949 के तहत किया गया है। यह भारत में चार्टर्ड अकाउंटेंट्स के कामकाज का रेग्‍युलेशन करती है। यह इकाई कॉरपोरट अफेयर्स मिनिस्‍ट्री के तहत काम करती है।

गुरुवार को क्या कार्रवाई हुई?
पीएनबी लोन फ्रॉड मामले में आठवें दिन यानी गुरुवार को ईडी ने नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के 100 करोड़ रुपए मूल्य के डिपॉजिट, म्‍यूचुअल फंड, शेयर्स और लग्‍जरी कारें जब्त किए। वहीं, नीरव मोदी बयान दर्ज कराने के लिए ईडी के सामने भी पेश नहीं हुए।

नीरव के ठिकानों से ईडी ने अब तक 5649 करोड़ रुपए के जेवर जब्त किए हैं। उधर, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने हैदराबाद सेज (इस्पेशल इकोनॉमिक जोन) में गीतांजलि ग्रुप की 1200 करोड़ की प्रॉपर्टी अटैच की। वहीं, ईडी नीरव को दोबारा समन भेजने की तैयारी में है।

PNB ने नीरव से मांगा है ठोस रिपेमेंट प्‍लान
उधर, पीएनबी ने नीरव मोदी से लोन रिपेमेंट के लिए के ठोस प्‍लान के साथ सामने आने को कहा है। PNB ने नीरव के ईमेल का जबाव देते हुए कहा है कि आपने गलत तरीके से 11400 करोड़ रुपए एलओयू जारी कराए हैं। यह काम आपने बैंक के कर्मचारियों के साथ मिलीभगत से किया है।

बैंक ने कभी भी आपकी तीनों पार्टनर कंपनियों को एलओयू जारी नहीं किया है। वहीं बैंक ने लोगों को भरोसा दिलाया है कि उसके पास अपनी जिम्‍मेदारी को पूरा करने के लिए पर्याप्‍त एसेट है। बता दें, नीरव ने अपने मेल में बैंक पर आरोप लगाया था आपके अति उत्‍साह ने सारे रास्‍ते बंद कर दिए हैं। इससे कंपनी की ब्रॉड वैल्‍यू खराब हुई है। इसके चलते यह मामला निपटाने के सारे रास्‍ते बंद हो चुके हैं।

कैसे सामने आया PNB घोटाला?
पंजाब नेशनल बैंक ने पिछले दिनों सेबी और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को 11,356 करोड़ रुपए के घोटाले के जानकारी दी थी। घोटाला पीएनबी की मुंबई की ब्रेडी हाउस ब्रांच में हुआ। शुरुआत 2011 से हुई। 8 साल में हजारों करोड़ की रकम फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग्स (एलओयू) के जरिए विदेशी अकाउंट्स में ट्रांसफर की गई। इस घोटाले के मुख्‍य आरोपी 2016 और 2017 में फोर्ब्स की अमीर भारतीयों की लिस्ट में शामिल नीरव मोदी है।

मोदी का मामा और गीतांजलि जेम्‍स का मालिक मेहुल चौकसी भी आरोपी है। ग्रुप की तीन कंपनियों गीतांजलि जेम्स, गिली इंडिया और नक्षत्र के खिलाफ फ्रॉड केस दर्ज हुए हैं। सीबीआई और ईडी की तरफ से नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के भारत में घरों, फॉर्म हाउस, स्‍टोर्स पर छापेमारी और जब्‍ती की कार्रवाई जारी है।