लूट का यंत्र स्मार्ट मीटर जनता पर क्यों थोपा, प्रभारी मंत्री नहीं दे पाए जवाब

0
48

कोटा। बिजली के स्मार्ट मीटर के विराध में संघर्ष समिति ने प्रभारी मंत्री प्रभु लाल सैनी को उनका वादा याद दिलाया, जिसमें उन्होंने इस मीटर के माध्यम से जनता से की जा रही लूट रोकने के लिए कहा था। बुधवार को सर्किट हाउस में संघर्ष समिति के प्रवक्ता बृजेश विजयवर्गीय ने सैनी से स्मार्ट मीटर की समस्या का समाधान करने का अनुरोध किया।

सैनी को जब विषय की गंभीरता के बारे में बताया और कहा कि जब जन प्रतिनधि सांसद और महापौर भी इस मीटर के खिलाफ जनता के समर्थन में है। तो फिर लूट का यंत्र क्यों जनता पर थोपा गया ? तो सैनी ने कहा कि सरकार से बात करूंगा।

वहां मौजूद विधायक प्रहलाद गुंजल ने कहा कि हमारे उत्तर में तो नहीं लगे ये मीटर। समिति के राजेश नामा, संजय पारीक एवं वरिष्ठ सदस्य मदन मोहन विजयवर्गीय तथा तलवण्डी सेक्टर 1,2,3 एवं 4 के निवासियों ने भी सर्किट हाउस पहुंच कर स्मार्ट मीटर को हटाने की मांग सरकार से की हैं।

यहां उल्लेखनीय है कि समिति ने मंत्री को इस बार ज्ञापन नहीं दिया। ज्ञापन एक बार दिया जा चुका है, बार बार ज्ञापन नहीं दिया जाएगा। अब तो जनता कार्रवाई का इंतजार कर रही है। मंत्री को प्रतिदिन नागरिक गण मोबाईल फोन पर स्मार्ट मीटर हाटाने की माग कर रहे हैं।

अब तक सैकड़ों लोग मंत्री को फोन कर चुके है। जब जन प्रतिनिधि भी जनता के साथ होने की बात करते हैं, तो क्यों नहीं ठोस निर्णय कर लूट को बंद कराते? समिति के प्रतिनिधियों ने सैनी से सवाल किया कि जनता को आंदोलन में क्यों झोंकना चाहते हो तो भी मंत्री महोदय खामोश रहे।

चम्बल शुद्धिकरण पर मंत्री उदासीन रहे
प्रभारी मंत्री प्रभु लाल सैनी चम्बल नदी के प्रदूषण पर मौन ही रहे। जल बिरादरी के प्रदेश उपाध्यक्ष बृजेश विजयवर्गीय एवं वानर सेना के संरक्षक गजेंद्र भार्गव ने शुद्धिकरण की योजनाओं को सरकार द्वारा गंभीरता से नहीं लेने पर अपत्ति दर्ज कराई तो मंत्री महोदय मौन रहे। विजयवर्गीय ने कहा कि एक जिम्मेदार मंत्री की उदासीनता समझ से परे है। जब मंत्री ही उदासीन रहेगा तो प्रशासन से क्या उम्मीद की जाए।