पश्चिमी विक्षोभ से 3 मई तक मौसम रहेगा खराब, इन राज्यों में बारिश की चेतावनी

0
142

नई दिल्ली। मई के पहले सप्ताह से देश के कई हिस्सों में वर्षा की संभावना है। मौसम विभाग की मानें तो पहाड़ों पर अच्छी बारिश हो सकती है। इस दौरान हरियाणा, राजस्थान, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और दिल्ली में भी आंधी व गरज चमक के साथ वर्षा देखने को मिल सकती है। इधर, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, तेलंगाना के अलावा झारखंड समेत पूर्वी भारत के कुछ हिस्सों में भी तेज बारिश बढ़ सकती है।

स्काईमेट वेदर के मुताबित अगले 24 घंटों के दौरान, राजस्थान, पंजाब और हरियाणा के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश के साथ आंधी और देखो की गरज चमक के साथ हल्की बारिश हो सकती है। उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह और केरल में हल्की से मध्यम बारिश के साथ 12 स्थानों पर तेज बारिश होने की संभावना है।

वहीं पश्चिमी हिमालय, उत्तर पूर्व भारत, मध्य महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों और तटीय आंध्र प्रदेश में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। बिहार, उड़ीसा, तेलंगाना, मराठवाड़ा और विदर्भ के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश होने की उम्मीद है। गुजरात और छत्तीसगढ़ में एक-दो स्थानों पर हल्की बारिश संभव है।

आंधी-पानी के आसार: उत्तर प्रदेश का मौसम एक बार फिर करवट ले रहा है। मौसम विभाग ने पहली से तीन मई के बीच प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर आंधी-पानी के आसार जताए हैं। मौसम निदेशक जेपी.गुप्त ने बताया कि पश्चिमी विक्षोभ और चक्रवातीय दबाव के चलते राज्य के मौसम में बदलाव आएगा। इन तीन दिनों में राज्य के अलग-अलग अंचलों में 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आंधी चलेगी और बारिश होगी। पूर्वी यूपी में आंधी पानी का ज्यादा असर रहने की आशंका है।

बारिश-बर्फबारी: हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले इलाकों में बारिश-बर्फबारी हो सकती है। 30 अप्रैल से पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने पर ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी और अन्य क्षेत्रों में बारिश के आसार हैं। इस दौरान मध्य पर्वतीय जिलों शिमला, सोलन, सिरमौर, मंडी, कुल्लू, चंबा में बारिश होगी। उच्च पर्वतीय जिलों किन्नौर व लाहौल स्पीति में तीन मई तक मौसम खराब रहने के आसार हैं। वहीं, मैदानी जिलों ऊना, बिलासपुर, हमीरपुर और कांगड़ा में एक मई तक मौसम साफ रहेगा। दो मई से इन जिलों में बारिश की संभावना है।