उल्लेखनीय सेवाओं के लिए 100 से अधिक कोरोना वारियर्स संस्थाओं का सम्मान

0
285

कोटा। कोटा उत्तर नगर निगम की ओर से मंगलवार को पुरुषार्थ भवन पर कोरोना काल में की गई जन सेवाओं के लिए कोरोना वारियर्स सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। समारोह में शहर की 100 से अधिक व्यापारिक, औद्योगिक, हॉस्टल व्यवसाय, स्वयंसेवी एवं सामाजिक संस्थाओं के पदाधिकारियों का उनकी उल्लेखनीय सेवाओं के लिए सम्मान पत्र एवं शील्ड देकर सम्मानित किया गया।

समारोह को संबोधित करते हुए कोटा उत्तर नगर निगम की महापौर मंजू मेहरा ने कहा कि कोटा शहर की एक-एक व्यापारिक एवं औद्योगिक संस्थाओं ने प्रशासन के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम किया है। उन्होंने कहा कि कोटा के व्यापार एवं उद्योग जगत द्वारा जो अनूठी पहल इस कोरोना काल में की है वह देश के किसी भी क्षेत्र में देखने को नहीं मिली है।

उन्होंने कहा कि कोटा व्यापार महासंघ एवं दी एसएसआई एसोसिएशन की टीमों ने शहर के हर कोने में भोजन, राशन वितरण एवं जन जागृति चलाने का जो उदाहरण पेश किया वह बेमिसाल है। ऐसी सेवा के लिए उनको प्रोत्साहित करना एवं सम्मान देना एक बहुत छोटी सी चीज है। कोटा के सभी वर्गों ने सभी स्तर पर अपनी जनसेवा दी है तभी हम ऐसे कठिन समय में हम नैया पार कर पाए हैं। इसके लिए पूरे कोटा शहर के व्यापार उद्योग जगत को हम साधुवाद देते हैं।

कोटा उत्तर नगर निगम के उप महापौर सोनू कुरैशी ने कहा कि कोरोना काल में कोटा के व्यापार एवं उद्योग जगत नें जन सेवा का अभियान चलाकर जो कार्य किए वह एक मिसाल है। कोटा दक्षिण नगर निगम के उपमहापौर पवन मीणा ने कहा कि व्यक्ति सोचता है कि मुसीबत आने पर सहायता कहां से मिलेगी। यह सोचने की जरूरत नहीं। पूरे शहर के व्यापारियों एवं उद्यमियो के हजारों हाथ तन मन धन से जो जनहित के कार्य में जुटे हुए हैं। कोटा के व्यापारियों ने कोरोना काल में शहर में एक भी व्यक्ति को भूखा नहीं सोने दिया। सभी लोगों ने कोरोना का डर अपने मन से भगाकर इस जन सेवा के कार्य में तन-मन-धन से योगदान दिया।

कोरोना काल को वरदान में बदल दिया
नगर निगम के आयुक्त वासुदेव मालावत ने कहा कि प्रशासन के हाथ नियम के दायरे में ज्यादा काम नहीं कर सकता, लेकिन जो काम हम नहीं कर सकते, वह सामाजिक व्यापारिक एवं औद्योगिक संगठनों ने करके कोरोना काल को वरदान में बदल दिया। कोटा में रहने वाले पूरे हिंदुस्तान के विद्यार्थियों को सकुशल घर वापस पहुंचाने में जो व्यापारियों एवं हॉस्टल एसोसिएशन ने जो प्रशासन को सहयोग किया है उसके लिए हम धन्यवाद देते हैं।

पूरे देश के लिए अनूठी मिसाल
नगर निगम के आयुक्त कीर्ति राठौड़ ने कहा कि जब भी प्रशासन को सफाई व्यवस्था में बाधा आती है तो नगर निगम के साथ कोटा का व्यापारी तमाम लोगों को प्रेरित करता है। कोटा के विकास में यहां के व्यापारियों एवं उद्यमियों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। कोरोना काल में भी यहां के व्यापारियों एवं उद्यमियों ने जो सराहनीय कार्य वह पूरे देश के लिए एक अनूठी मिसाल है।

3 लाख से अधिक भोजन के पैकेट एवं 16000 राशन के किट पहुंचाए
इस मौके पर कोटा व्यापार महासंघ के अध्यक्ष क्रांति जैन एवं महासचिव अशोक माहेश्वरी ने कहा कि कोरोना काल में कोटा में हमने किसी को भी भूखा नहीं सोने दिया। यहां तक की होस्टलो में निवास कर रहे 50 हजार विद्यार्थियों को 2 माह तक लॉकडाउन में फंसे होने के कारण उनको संपूर्ण सुविधाएं उपलब्ध करवाई और सकुशल घर भेजने के कार्य किया। महासचिव अशोक माहेश्वरी ने कहा महासंघ की 500 लोगों की टीम ने अपना योगदान देकर करीब 50 दिन तक 3 लाख से अधिक भोजन के पैकेट एवं 16000 राशन के किट शहर के जरूरतमंदों को पहुंचाएं।

समारोह को दी एसएसआई एसोसियशन के संस्थापक अध्यक्ष गोविंदराम मित्तल, अध्यक्ष मुकेश गुप्ता एवं सचिव ईशान्त अरोड़ा ने भी संबोधित किया। उन्होंने बताया कि जनजागृति के तहत कोरोना के बचाव के लिए एसोसिएशन ने हर उद्योग को निशुल्क सेनेटाइजर मशीन उपलब्ध कराई। इस कार्यक्रम का संचालन सामाजिक विकास संसथान नगर निगम की प्रबन्धक डॉ० हेमलता गांधी ने किया। समारोह का आयोजन कोटा व्यापार महासंघ एवं दी एसएसआई एसोसिएशन के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित किया गया था।