नवंबर माह में GST संग्रह 11 फीसदी बढ़कर 1.46 लाख करोड़ रुपये रहा

60

नयी दिल्ली। GST Collection: देश में जीएसटी (GST) संग्रह नवंबर महीने में सालाना आधार पर 11 प्रतिशत बढ़कर करीब 1.46 लाख करोड़ रुपये रहा। वित्त मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को एक बयान में यह जानकारी दी। मुख्य रूप से उपभोक्ता खर्च बढ़ने और बेहतर अनुपालन से जीएसटी राजस्व बढ़ा है।

यह लगातार नौवां महीना है जब माल एवं सेवा कर (GST) राजस्व 1.40 लाख करोड़ रुपये से अधिक रहा है। हालांकि नवंबर में जीएसटी संग्रह अगस्त के बाद से सबसे कम रहा है। इससे पहले, अक्टूबर में जीएसटी संग्रह त्योहारों में खर्च बढ़ने से 1.52 लाख करोड़ रुपये रहा जो दूसरा सर्वाधिक मासिक राजस्व है।

वित्त मंत्रालय के बयान के अनुसार सकल जीएसटी राजस्व संग्रह नवंबर महीने में 1,45,867 करोड़ रुपये रहा। इसमें केंद्रीय जीएसटी 25,681 करोड़ रुपये, राज्य जीएसटी 32,651 करोड़ रुपये, एकीकृत जीएसटी 77,103 करोड़ रुपये (आयातित वस्तुओं पर प्राप्त 38,635 करोड़ रुपये समेत) और उपकर 10,433 करोड़ रुपये रहा। इसमें आयातित वस्तुओं से उपकर के रूप में मिले 817 करोड़ रुपये भी शामिल हैं।

बयान के अनुसार, ‘‘इस साल नवंबर महीने में जीएसटी राजस्व पिछले साल के समान महीने के मुकाबले 11 प्रतिशत अधिक रहा। नवंबर 2022 में यह 1,31,526 करोड़ रुपये था।’’केपीएमजी के पार्टनर (अप्रत्यक्ष कर) अभिषेक जैन ने कहा कि जीएसटी संग्रह बढ़ने में त्योहारी खरीद जारी रहने और साल के अंत में इनपुट टैक्स क्रेडिट का मिलान आदि की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

एनए शाह एसोसिएट्स में पार्टनर (अप्रत्यक्ष कर) पराग मेहता ने कहा कि जीएसटी संग्रह बढ़ने का प्रमुख कारण त्योहार और शादियों का मौसम है। मेहता ने कहा, ‘‘रियल एस्टेट और वाहन बाजारों में बिक्री बढ़ी है। कुल मिलाकर उपभोक्ता खर्च बढ़ा है। इसके अलावा कर अधिकारी कर चोरी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई भी कर रहे हैं।’’

आलोच्य महीने के दौरान आयातित वस्तुओं के आयात से राजस्व 20 प्रतिशत अधिक रहा। वहीं घरेलू लेन-देन (सेवाओं के आयात समेत) से राजस्व सालाना आधार पर आठ प्रतिशत अधिक रहा।

जीएसटी राजस्व अप्रैल महीने में रिकॉर्ड 1.68 लाख करोड़ रुपये के उच्च स्तर पर पहुंच गया था। मई में यह 1.41 लाख करोड़ रुपये, जून में 1.45 लाख करोड़ रुपये, अगस्त में 1.44 लाख करोड़ रुपये, सितंबर में 1.48 लाख करोड़ रुपये और अक्टूबर में 1.52 लाख करोड़ रुपये रहा था।

टैक्स कनेक्ट एडवाइजरी में पार्टनर विवेक जालान ने कहा कि वित्त वर्ष 2022-23 के बजट में केंद्र सरकार के लिये जीएसटी राजस्व 7.8 लाख करोड़ रुपये रहने का अनुमान रखा गया है। इसमें 6.6 लाख करोड़ रुपये केंद्रीय जीएसटी और 1.2 लाख करोड़ रुपये क्षतिपूर्ति उपकर रहने का अनुमान है। इसका मतलब है कि जीएसटी संग्रह 14.4 लाख करोड़ रुपये के करीब रहेगा। नवंबर तक 11.91 लाख करोड़ रुपये पहले ही आ चुके हैं।

जालान ने कहा, ‘‘मोटे अनुमान के तौर पर अगले चार महीनों में जीएसटी संग्रह पांच लाख करोड़ रुपये भी रहता है तो लक्ष्य से लगभग 2.5 लाख करोड़ रुपये अधिक होंगे जो बजट अनुमान से 17 प्रतिशत ज्यादा होगा।’’