केदारनाथ हेलीकॉप्टर सेवा के टिकट पर दो हजार तक का ब्लैक

0
437

कोटा। पवित्र केदारनाथ तक जाने वाले हेलीकॉप्टर के टिकट ब्लैक में बिकते हैं। इस बात को नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने माना है। सरकार अगले साल से केदारनाथ के लिए हेलीकॉप्टर सेवा के टिकट को गढ़वाल मंडल विकास निगम (जीएम वीएन) के माध्यम से बेचने पर विचार कर रही है। केदारनाथ तक की पैदल यात्रा आसान नहीं है, इसलिए काफी अधिक संख्या में तीर्थयात्री हेलीकॉप्टर से वहां जाना चाहते हैं।

ऐसे में, केदारनाथ जाने के लिए मंदाकनी वैली में चलने वाले हेलीकॉप्टर के टिकट की भारी मांग रहती है। नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप पुरी के मुताबिक मंदाकनी वैली में चलने वाले हेलीकॉप्टर सेवा का संचालन उत्तराखंड नागर विमानन विकास प्राधिकरण (यूसी-एडीए) करता है। सीजन (मई-अक्टूबर) के दौरान मंदाकनी वैली में कई हेलीकॉप्टर ऑपरेटर्स शटल सेवा मुहैया कराते हैं। इन तमाम गतिविधियों की निगरानी उत्तराखंड सरकार के अधीनस्थ रुद्रप्रयाग का जिला प्रशासन करता है।

पुरी के मुताबिक हेलीकॉप्टर के टिकट की कालाबाजारी को लेकर उत्तराखंड सरकार को कई शिकायतें मिली हैं। इस संबंध में रुद्रप्रयाग जिला प्रशासन की तरफ से 8 एफआईआर भी दर्ज कराई गई है। सरकार की तरफ से टिकट की ब्लैक मार्केटिंग पर रोक के लिए हर हेलीपैड पर जिला प्रशासन की ओर से इंचार्ज नियुक्त किए जाते हैं।

जिला प्रशासन की तरफ से तैनात अधिकारी इस मामले में यात्रियों से भी बातचीत करते हैं। हालांकि ब्लैक मार्केटिंग को पूरी तरह से समाप्त करने के लिए उत्तराखंड सरकार सभी हेलीकॉप्टर के टिकट को एक जगह से बेचने पर विचार कर रही है। इसकी जिम्मेदारी किसी सरकारी एजेंसी या फिर गढ़वाल मंडल विकास निगम को दी जा सकती है।

इस रिपोर्टर ने खुद सीधे हेलीकॉप्टर सेवा देने वाली कम्पनी के नुमाईंदे से बात की तो उसने मना कर दिया, किन्तु जिस होटल में रुके थे वहां मैनेजर से बात की तो 8 हजार का टिकट 10 हजार में मिल गया। सात जनों का 70 हजार रुपये माँगा, जो दिया।