राहुल गांधी की राजस्थान यात्रा शुरू, चंद्रभागा चौराहे पर करेंगें नुक्कड़ सभा

37

-कृष्ण बलदेव हाड़ा-
कोटा। कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा का राजस्थान में आज पहला दिन है। श्री गांधी ने झालावाड़ जिले में रायपुर के समीप काली तलाई से अपनी यात्रा शुरू की।

श्री गांधी के साथ भारी भीड़ का काफिला चल रहा है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा और पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट भी श्री गांधी के साथ कदम ताल मिलाते हुए चल रहे हैं। रास्ते में कुछेक अवसरों पर श्री गांधी ने मुख्यमंत्री श्री गहलोत और पूर्व मुख्यमंत्री श्री पायलट से अलग-अलग बातचीत भी की।

यात्रा के शुरुआती चरण से ही श्री गांधी ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट को अपने साथ रख कर प्रदेश कांग्रेस में एक बार फिर से एकता का संदेश देने की कोशिश की है। अभी तक श्री गहलोत और श्री पायलट के बीच इसी यात्रा के दौरान किसी तरह की तल्खी देखने को नहीं मिली है।

हालांकि श्री गांधी की उपस्थिति में भी इन दोनों नेताओं के बीच आपसी संवाद करते हुए देखने को नहीं मिला। लेकिन दोनों की बॉडी लैंग्वेज से इस बात का पता लग रहा था कि वे निश्चिंत भाव से इस यात्रा में शामिल हो रहे हैं। उल्लेखनीय है कि कल रात को भी श्री गहलोत और श्री पायलट ने चंवली चौराहे पर स्वागत सभा के पहले लोक कलाकारों के साथ हाथ से हाथ मिला कर काफी देर तक नृत्य किया था।

आज अपनी राजस्थान में पहली दिन की यात्रा के दौरान श्री गांधी का लगभग 34 किलोमीटर तक पैदल सफर करने का कार्यक्रम है। हालांकि इस पूरी यात्रा के दौरान आमतौर पर श्री गांधी तकरीबन 25 किलोमीटर ही रोजाना चलते रहे हैं, लेकिन आज श्री गांधी की यात्रा की गति को बढ़ाया गया है।

श्री गांधी रास्ते में दोपहर में भोज के बाद अपने काफिले के साथ झालावाड़ की ओर रवाना हो जाएंगे। झालावाड़ से पहले झालरापाटन में शाम को चंद्रभागा चौराहे पर एक नुक्कड़ सभा को संबोधित करेंगे। उनका खेल संकुल में रात्रि विश्राम का कार्यक्रम है। इसके बाद 6 दिसम्बर की सुबह वे कोटा जिले की ओर प्रस्थान कर जाएंगे।

आज रास्ते में जगह-जगह श्री गांधी की भारत जोड़ो यात्रा का स्वागत करने के लिये सड़क के दोनों ओर बड़ी संख्या में लोग उमड़े और ऐसे बहुत से लोग थे, जिन्होंने अपने हाथों में राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा उठा रखा था। जब भी श्री गांधी और उनका काफिला नजदीक से गुजरा तो उन लोगों ने तिरंगा झंडा लहरा कर उनका भावभीना अभिनंदन किया।

सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त: श्री गांधी की यात्रा के दौरान सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए हैं और नजदीकी केवल उन्हीं लोगों को आने दिया जा रहा है, जिनसे मुलाकात पहले से तय की हुई है। उनसे भी श्री गांधी कहीं रुकने की जगह चलते-चलते ही ऐसे लोगों से संक्षेप में संवाद कर रहे हैं। इनमें कई कांग्रेस के कार्यकर्ता भी शामिल हैं।