केंद्र ने 2021-22 के लिए गेहूं उत्पादन का अनुमान घटाकर 10.64 करोड़ टन किया

54

नयी दिल्ली। कृषि मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को जारी अपने ताजा अनुमान में कहा कि देश का गेहूं उत्पादन पिछले वर्ष के मुकाबले फसल वर्ष 2021-22 (जुलाई-जून) में लगभग तीन प्रतिशत घटकर 10 करोड़ 64.1 लाख टन रहने की संभावना है।

आंकड़ों में बताया गया है कि हालांकि, यह उत्पादन अनुमान फसल वर्ष 2021-22 के लिए पहले अनुमानित 11 करोड़ 13.2 लाख टन से 4.61 प्रतिशत कम है। फसल वर्ष 2020-21 में गेहूं का उत्पादन रिकॉर्ड 10 करोड़ 95.9 लाख टन का हुआ था।

कृषि सचिव मनोज आहूजा ने पिछले हफ्ते गेहूं के उत्पादन में गिरावट के लिए मुख्य रूप से गर्मी की वजह से पंजाब और हरियाणा में कम फसल पैदावार को जिम्मेदार ठहराया था। उन्होंने यह भी संकेत दिया था कि इस साल गेहूं का उत्पादन घटकर 10.5-10.6 करोड़ टन रह सकता है।

मंत्रालय की ओर से जारी खाद्यान्न उत्पादन के तीसरे अग्रिम अनुमान के मुताबिक, गेहूं के अलावा कपास और मोटे अनाज के उत्पादन में मामूली गिरावट का अनुमान है। अन्य खाद्यान्नों और नकदी फसलों के मामले में उत्पादन के आंकड़े पिछले वर्ष की तुलना में अधिक हैं।

फसल वर्ष 2021-22 में चावल का उत्पादन बढ़कर 12 करोड़ 96.6 लाख टन होने का अनुमान है, जबकि पिछले वर्ष में यह 12 करोड़ 43.7 लाख टन था। दलहन उत्पादन फसल वर्ष 2020-21 के दो करोड़ 54.6 लाख टन से बढ़कर वर्ष 2021-22 में दो करोड़ 77.5 लाख टन होने का अनुमान है। मोटे अनाज का उत्पादन समीक्षाधीन अवधि के दौरान पांच करोड़ 13.2 लाख टन से मामूली घटकर पांच करोड़ सात लाख टन रहने की उम्मीद है।

गेहूं और अन्य दो जिंसों के उत्पादन में संभावित गिरावट के बावजूद देश का कुल खाद्यान्न उत्पादन वर्ष 2021-22 में 31 करोड़ 45.1 लाख टन के एक नए रिकॉर्ड को छूने का अनुमान है, जबकि पिछले वर्ष में यह 31 करोड़ 7.4 लाख टन रहा था।

तिलहन के मामले में उत्पादन वर्ष 2021-22 में रिकॉर्ड तीन करोड़ 84.9 लाख टन होने का अनुमान है, जबकि पिछले वर्ष तीन करोड़ 59.4 लाख टन का उत्पादन हुआ था। जहां तक नकदी फसलों का संबंध है, मंत्रालय ने कहा कि पिछले वर्ष के 40 करोड़ 53.9 लाख टन की तुलना में इस वर्ष गन्ना उत्पादन रिकॉर्ड 43 करोड़ चार लाख टन होने का अनुमान है।

हालांकि, कपास का उत्पादन वर्ष 2021-22 में 170 किलोग्राम के तीन करोड़ 15.4 लाख गांठ होने का अनुमान है, जो पिछले वर्ष तीन करोड़ 52.4 लाख गांठ था। ताजा अनुमान के अनुसार, जूट और मेस्टा का उत्पादन वर्ष 2021-22 में 180 किलोग्राम की एक करोड़ 2.2 लाख गांठ होने की उम्मीद है। जो पिछले वर्ष 93.5 लाख गांठ था। मंत्रालय खाद्यान्न उत्पादन के अंतिम अनुमान से पहले कटाई के विभिन्न चरणों में तीन अग्रिम अनुमान जारी करता है।