विदेश से भारत ऑनलाइन पेमेंट भेजना हुआ आसान, मोदी सरकार का तोहफा

40

नई दिल्ली। पीएम मोदी ने विदेशों में रहने वाले भारतीयों को तोहफा दिया है। पीएम मोदी ने विदेश से भारत ऑनलाइन पैसे भेजने की राह आसान बना दी है। बता दें कि अभी तक विदेश से भारत UPI से पैसे भेजने के लिए एक भारतीय मोबाइल नंबर होना अनिवार्य था। लेकिन पीएम मोदी ने इस अनिवार्यता को खत्म कर दिया है। ऐसे में भारतीय यूजर्स इंटरनेशनल नंबर से भी भारत UPI कर पाएंगे।

भारतीय नंबर रखने की अनिवार्यता खत्म: इससे पहले तक प्रवासी भारतीयों को एक मोबाइल नंबर एक्टिव रखना पड़ता था, जिसके लिए विदेशों में मोटा रिचार्ज करना होता था। जिससे फिलहाल जल्द छुटकारा मिलने जा रहा है। विदेशों से इंटरनेशनल मोबाइल नंबर से ऑनलाइन पैसे भेजने की सर्विस फिलहाल 10 देशों के लिए शुरू हो रही है।

किन देशों के लिए सर्विस हुई लागू: UPI सर्विस को फिलहाल 10 देशों के लिए लागू किया गया है। इसमें कनाड़ा, हांगकांग, ओमान, यूएस, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर, यूएई, यूके और साउदी अरब और कतर जैसे देश शामिल हैं। इन देशों में रहने वाले प्रवासी भारतीयों के लिए UPI सर्विस के लिए किसी भारतीय मोबाइल नंबर की जरूरत नहीं होगी। इन 10 देशों के अलावा जल्द कई अन्य देशों के लिए UPI सर्विस शुरू होगी। सरकार ने बैंकों से इस सर्विस को शुरू करने के लिए 10 अप्रैल 2023 तक का वक्त दिया है।

क्या करना होगा: नेशनल पेमेंट कारपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) के मुताबिक UPI से भारत पैसे भेजने के लिए प्रवासी भारतीयों को बैंक अकाउंट टाइप में नॉन रेजिडेंट एक्सटर्नल (NRE) और नॉन रेजिडेंट ऑर्डिनरी (NRO) टाइप करना होगा। इसके बाद प्रवासी भारतीय इंटरनेशनल मोबाइल नंबर से भारत पैसे भेज पाएंगे। बता दें कि NRO अकाउंट को प्रवासी भारतीय नागरिकों को विदेशो में होने वाली कमाई को भारत भेजने के लिए किया जाता है.

क्या होगा फायदा: इससे उन स्टूडेंट्स को फायदा होगा, जो कि पढ़ाई, फैमिली या फिर बिजनेस के सिलसिले में विदेश जाते हैं। साथ ही विदेशों में काम करने वाले मजदूर वर्ग के लिए भी भारत पैसे भेजना आसान हो जाएगा।

सरकार ने तय की गाइडलाइन: सरकार ने विदेशों से भेजे जाने वाले पैसों को फेमा यानी रेगुलेशन की गाइडलाइंस को मानने का आदेश दिया है। जिससे विदेशी पैसे का इस्तेमाल आतंकवाद के खिलाफ न किया जा सके।