आयात में देरी होने से ड्राई फ्रूट महंगे होने की संभावना

0
28

मुंबई। अडानी के मुंद्रा सहित सभी बंदरगाहों से अफगानिस्तान, ईरान और पाकिस्तान से कंटेनरों को नहीं उतारने का निर्णय लिए जाने के बाद इन बंदरगाहों से नट और अन्य सामान अन्य बंदरगाहों पर लाए जाने की संभावना है। अदानी बंदरगाह के फैसले से सूखे माल का आयात नहीं रुकेगा, बल्कि बाजारों में माल की आवक में देरी होगी और माल थोड़ा महंगा भी होगा।

अदानी पोर्ट्स ने घोषणा की है कि ईरान, अफगानिस्तान और पाकिस्तान से भेजे गए माल को 15 नवंबर से उसके टर्मिनल पर नहीं उतारा जाएगा, क्योंकि 21,000 करोड़ रुपये की 3,000 किलोग्राम हेरोइन जब्त की गई थी। इन तीन देशों से हम सूखे मेवे और मसाले आयात करते हैं।

दिल्ली स्थित सूखे मेवे के आयातक अदानी पोर्ट्स या मुंबई के न्हावा शेवा पोर्ट के बजाय दिल्ली-तुगलकाबाद में इनलैंड कंटेनर डिपो (ICD) में माल ऑर्डर करेंगे। इसलिए आपूर्ति थोड़े समय के लिए कम हो सकती है। वाशी में एपीएमसी स्थित कोमल विदेशी मसालों के अध्यक्ष गोपालभाई आहूजा कहते हैं, माल भी पांच से छह दिन देरी से आने की संभावना है, लेकिन आयात बंद नहीं होगा।

मुंद्रा बंदरगाह पर आयात बंद होने से मुंबई के आयातकों को न्हावा शेवा में माल मंगवाना होगा। उन्हें आयातित दस्तावेजों को मुंद्रा बंदरगाह के बजाय न्हावा शेवा में स्थानांतरित करना होगा। इसलिए सुखाने की लागत थोड़ी बढ़ सकती है क्योंकि लागत थोड़ी बढ़ जाती है। सारा इंटरनेशनल के गुलामभाई गोर्डिल कहते हैं, लेकिन आयात पर कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ेगा और आपूर्ति बनी रहेगी।

यदि अडानी बंदरगाहों पर शुष्क पदार्थ का आयात नहीं किया जाता है, तो इसे अन्य बंदरगाहों पर आयात किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, मुंबई के व्यापारी न्हावा शेवा बंदरगाह पर आयात कर सकते हैं। इससे न्हावा शेवा बंदरगाह पर काम का बोझ बढ़ेगा और बंदरगाह अधिकारी की जांच की जिम्मेदारी बढ़ेगी। अन्य बंदरगाहों पर आयात जारी रहेगा। हालांकि, बाजार में आपूर्ति संकट की कोई संभावना नहीं है। एपीएमसी के खरेक आयातक का कहना है कि व्यापारियों को थोड़ी परेशानी होगी, लेकिन आयात जारी रहेगा।

हम मुख्य रूप से ईरान और अफगानिस्तान से सूखे मेवे आयात करते हैं। व्यापारी को अपना माल दूसरे बंदरगाह पर लाने के लिए नई व्यवस्था करनी होगी। इसलिए अगर कीमत थोड़ी बढ़ जाती है, तो कीमत भी बढ़ सकती है।

माताजी ट्रेडिंग के अर्जुन चौधरी का कहना है कि आयातित सामान मिलने में पहले से ज्यादा समय लग सकता है। अदानी बंदरगाहों के बजाय अन्य बंदरगाहों पर आयात संभव होगा। आयातित माल की निकासी का बोझ बढ़ेगा। इसलिए सामान साफ़ करने में सामान्य से थोड़ा अधिक समय लग सकता है। तो डमररेज भी होने की संभावना है। नतीजतन, आयात लागत बढ़ सकती है। अन्य बंदरगाहों में कांडला बंदरगाह पर समान त्वरित सेवा नहीं है।

व्यापारियों को कांडला के बजाय अन्य बंदरगाहों पर माल मंगवाना होगा, इसलिए परिचालन में थोड़ी वृद्धि होगी। यह एपीएमसी स्थित खारावाला प्रोडक्ट्स के सिद्धार्थ खारवाला के अनुसार है। कांडला बंदरगाह पर आयात नहीं किया जा सकता है, तो व्यापारी अन्य बंदरगाहों पर आयात करना शुरू कर देंगे। आयात को दूसरे बंदरगाह पर स्थानांतरित करने से माल की डिलीवरी में थोड़ी देरी हो सकती है, लागत भी बढ़ सकती है, लेकिन आयात में कोई समस्या नहीं होगी और न ही आपूर्ति बाधित होगी।

जिस शहर में व्यापारी होंगे वहां माल आयात करने की प्रक्रिया में थोड़ा अधिक समय लग सकता है। एपीएमसी स्थित ऑल इंडिया हिंग के देवेंद्र वाही का कहना है कि यह उपभोक्ताओं के लिए नहीं बल्कि व्यापारियों के लिए समस्या होगी।