एमनेस्टी स्कीम: वाणिज्यिक कर विभाग दे रहा विवादित बकाया के निपटान का मौका

0
1131

कोटा। वाणिज्यिक कर विभाग कर विभाग द्वारा ऐसे व्यवहारियों जिनके विरुद्ध विभाग में सन् 2017 से पूर्व के संबंधित कोई भी मांग राशि बकाया है या विवादित है, उसके निपटान के लिए एमनेस्टी स्कीम की घोषणा की गई है।

वाणिज्यिक कर विभाग की उपायुक्त आराधना सक्सेना, अधिकारी अनुपम शर्मा, शिवेन्द्र सक्सेना, रितेश जैन, विनोद बेनीवाल, प्रकाश एवं रेणुका वर्मा ने एमनेस्ट्री स्कीम 2021 के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इसके प्रथम चरण में बकाया कर के 90% द्वितीय चरण में 95% एवं तीसरे चरण में 100% राशि जमा कराने पर शेष ब्याज लेट फीस पेनल्टी आज तक का आरोपित ब्याज में छूट प्रदान की जाएगी।

यह जानकारी सोमवार को दी एसएसआई एसोसिएशन एवं हाड़ोती कोटा स्टोन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन की ओर से पाषाण भवन पर आयोजित कार्यशाला में वाणिज्यिक कर विभाग की ओर से उद्यमियों को दी गई। उन्होंने बताया कि इसी प्रकार बकाया एवं विवादित सामान्य मांगों के क्रम में प्रथम चरण में अंतर कर की 20 % द्वितीय चरण में अंतर कर की 25% एवं तृतीय चरण में अंतर कर की 30% राशि जमा ब्याज कराने पर लेट फीस पेनल्टी एवं ब्याज में की छूट प्रदान की जाएगी।

उन्होंने बताया कि ऐसी बकाया राशि जो पूरी तरह ब्याज एवं पेनल्टी से संबंधित है, जिसकी कुल राशि 25 करोड़ से अधिक है, उसी क्रम में प्रथम चरण में ब्याज और पेनल्टी की 40% द्वितीय चरण में 45% और तीसरे चरण में 50% जमा कराने पर शेष ब्याज पेनल्टी एवं लेट फीस में छूट प्रदान की जाएगी। इस योजना के अंतर्गत लाभ लेने के लिए अंतिम तिथि का प्रथम चरण 31 जुलाई है। दूसरे चरण की 31 अगस्त 2021 और तीसरे चरण की 30 सितम्बर 2021 है।

अब तक की सबसे बेहतरीन एमनेस्टी स्कीम: इस अवसर पर दी एसएसआई एसोसिएशन के संस्थापक अध्यक्ष गोविंदराम मित्तल ने बताया कि राजस्थान सरकार की ओर से जारी एमनेस्टी स्कीम अब तक की सबसे अच्छी स्कीम है। सभी व्यापारियों और उद्यमियों को इसका फायदा ब्याज एवं पेनल्टी आदि से छुटकारा लेना चाहिए ।

व्यापारी एवं उद्यमी इसका फायदा उठाएं: कोटा व्यापार महासंघ के अध्यक्ष क्रांति जैन एवं महासचिव अशोक माहेश्वरी ने कहा कि वाणिज्य कर विभाग की पुरानी डिमांड एवं पेनल्टी, ब्याज मूलधन पर छूट के लिए यह एमनेस्टी स्कीम लाई गई है। जीएसटी लगने के बाद पहली बार पिछले 60 सालों से लंबित पड़े डिमांड के मामले जो कोर्ट एवं विभाग में चल रहे हैं उनका निपटारा करने के लिए यह बहुत अच्छी स्कीम है। उन्होंने घोषणा की कि व्यापार महासंघ अपनी 150 व्यापारिक एवं औद्योगिक संगठनों एंव वाणिज्य कर विभाग के साथ बैठक कर सभी व्यापारियों उद्यमियों को इस स्कीम की जानकारी उपलब्ध कराएगा।

बकाया की लिस्ट हमें सौंपे: महासचिव अशोक माहेश्वरी ने वाणिज्यिक कर विभाग की उपायुक्त एवं अधिकारियों से अनुरोध किया है कि कोटा में हर ट्रेड के व्यापारियों की डिमांड जो आप के विभाग में बकाया चल रही है, उसकी लिस्ट हमें सौंपे। जिसे हम उनसे इस एमनेस्टी स्कीम का फायदा उठाने के लिए प्रेरित करेंगें। इसमें जो समय सीमा ज्यादा दी गयी है, बहुत ही कम है। सबसे ज्यादा छूट सिर्फ 30 जुलाई 2021 तक की निर्धारित की गई है।

कैम्प का भी आयोजन करेंगे: एसोसिएशन के अध्यक्ष जम्बू कुमार जैन ने कहा कि मूलधन पर जिस तरह की राहत इस स्कीम में दी गई है, वह आज तक नहीं आई है। उन्होंने सभी उद्यमियों से अपील की है कि वह इसका ज्यादा से ज्यादा फायदा उठाएं। एसोसिएशन इसके लिए कैम्प का भी आयोजन करेगी। हाडोती कोटा स्टोन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के अध्यक्ष आरएन गर्ग ने कहा कि विभागीय खामियों की वजह से व्यापारियों पर डिमांड खड़ी हुई है, लेकिन फिर भी यह एक अच्छा मौका है।