राजस्थान CM कोविड फंड में पैसा देने में कांग्रेस पीछे, अब तक मौन कांग्रेस विधायक

    0
    89

    जयपुर। कोरेाना की दूसरी लहर में मुख्यमंत्री सहायता कोष के कोविड फंड में दानदाता और विपक्षी पार्टियों के विधायक योगदान कर रहे हैं। भाजपा विधायकों ने एक माह का वेतन कोविड फंड में देने की घोषणा कर दी है। लेकिन सत्ताधारी कांग्रेस के ​मंत्री विधायकों ने अभी तक इसकी घोषणा नहीं की है। मुख्यमंत्री सहायता कोष के कोविड फंड में सहायता देने में सत्ताधारी पार्टी ही पीछे नजर आ रही है। अभी तक कांग्रेस विधायक दल ने इस संबंध में फैसला ही नहीं किया। जबकि नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया चार दिन पहले ही भाजपा विधायकों के एक दिन का वेतन कोविड फंड में देने की घोषणा कर चुके हैं।

    आम तौर पर सत्ताधारी पार्टी के विधायक ही इसकी अगुवाई करते हैं। कोरोना की पहली लहर में कांग्रेस विधायकों ने एक महीने का वेतन देने की घोषणा की थी लेकिन इस बार कांग्रेस विधायक दल कोई फैसला नहीं कर पाया है। कांग्रेस विधायक दल के नेता मुख्यमंत्री हैं। इसलिए फैसला उन्हीं के स्तर पर होना है। सरकारी मुख्य सचेतक महेश जोशी का कहना है- मुख्यमंत्री से चर्चा करके फैसला लिया जाएगा, अभी कुछ तय नहीं किया है।

    विधानभा स्पीकर देंगे एक माह का वेतन
    विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी ने एक महीने का वेतन कोविड फंड में देने की घोषणा की है। सीपी जोशी ने आज ही इसकी घोषणा की है। जोशी ने लोगों से भी योगदान की अपील की है।

    पूर्व विधायक संघ भी देगा कोविड फंड में पैसा
    राजस्थान के पूर्व विधायक भी सीएम कोविड फंड में पैसा देंगे। पूर्व विधायक संघ के अध्यक्ष हरिमोहन शर्मा ने भास्कर से कहा- कोविड फंड में हम पूर्व विधायक भी सहयोग देंगे। कल सभी साथियों से चर्चा के बाद फैसला करेंगे। सभी साथियों से विचार विमर्श के बाद कल कोविड फंड में पैसा देने की घोषणा की जाएगी।

    कोविड फंड में आए थे 609 करोड़
    कोरोना की पहली लहर में सीएम रिलीफ फंड के कोविड फंड में 609.53 करोड़ रुपए आए थे। सबसे ज्यादा फंड 324 करोड़ रुपए सरकारी कर्मचारियों की वेतन कटौती से आया था। अब तक इस फंड से सरकार ने 210 करोड़ रुपए खर्च किए हैं। अब फिर से दूसरी लहर में कोविड फंड में पैसा आने लगा है। अभी कोविड फंड में 400 करोड़ रुपए हैं, यह रकम और बढ़ेगी।