एक्टर विवेक ओबेरॉय के साले आदित्य अल्वा ड्रग्स केस में गिरफ़्तार

0
312

नई दिल्ली। बेंगलुरु ड्रग्स केस में बॉलीवुड एक्टर विवेक ओबेरॉय के ब्रदर-इन-लॉ आदित्य अल्वा को बेंगलुरु पुलिस की सेंट्रल क्राइम ब्रांच (सीसीबी) ने गिरफ़्तार कर लिया। गिरफ़्तारी की पुष्टि करते हुए ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर संदीप पाटिल ने बताया कि चार महीनों से फरार आदित्य को सोमवार रात चेन्नई से गिरफ़्तार किया गया। गिरफ़्तारी के बाद मंगलवार को आदित्य को एनडीपीएस कोर्ट में पेश किया गया।

जनता पार्टी के दिवंगत नेता जीवाराज अल्वा के बेटे आदित्य पर बेंगलुरु के हेबल में स्थित फार्म हाउस पर पार्टी आयोजित करने के आरोप हैं। पुलिस को शक है कि इन पार्टियों में ड्रग्स और प्रतिबंधित पदार्थों की आपूर्ति और इस्तेमाल किया जाता था। सेंट्रल क्राइम ब्रांच (सीसीबी) के सूत्रों ने पहले बताया था कि आदित्य के साथ मिलकर दूसरा मुख्यारोपी विरेन खन्ना इन पार्टियों का आयोजन करता था। आदित्य पर अपने रिसॉर्ट में जगह उपलब्ध करवाने का आरोप है, जबकि विरेन पर आरोप है कि वो इस पार्टी में शामिल होने के लिए हाई प्रोफाइल लोगों का इंतज़ाम करता था।

रिपोर्ट के अनुसार, आदित्य को चेन्नई और महाबलीपुरम के बीच स्थित एक रिसॉर्ट से गिरफ़्तार किया गया। ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर संदीप पाटिल ने कहा- आदित्य की गिरफ़्तारी के लिए लगातार ऑपरेशन जारी थी। पुलिस को एक टिप मिली थी कि वो चेन्नई में है, जहां से टीम ने उन्हें गिरफ़्तार किया।

बता दें, सीसीबी ने पिछले साल सितम्बर में आदित्य के रिसॉर्ट हाउस ऑफ़ लाइफ़ और घर में एक सर्च ऑपरेशन किया था, जिसमें तमाम दस्तावेज़ मिले थे। 15 अक्टूबर को आदित्य की तलाश में सीसीबी ने विवेक ओबेरॉय और प्रियंका अल्वा के मुंबई स्थित घर पर भी छापा मारा था। आदित्य उन 17 लोगों में शामिल है, जिन्हें सीसीबी ने सैंडलवुड ड्रग्स केस में बुक किया था। इस केस में एक्ट्रेस रागिनी द्विवेदी और संजना गलरानी की गिरफ़्तारी हो चुकी है।

आदित्य ने कॉटनपेट पुलिस स्टेशन में ड्रग्स मामले में दर्ज़ एफआईआऱ निरस्त करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका भी दायर की थी, जिसे उच्चतम न्यायालय ने खारिज़ कर दिया था। साथ ही आदित्य को अंतरिम ज़मानत देने से भी इनकार कर दिया था। कर्नाटक हाई कोर्ट ने भी उनकी अंतरिम ज़मानत याचिका को खारिज़ कर दिया था। पिछले साल अगस्त में एक इंटरनेशनल ड्रग रैकेट की गिरफ़्तारी के बाद कन्नड़ फ़िल्म इंडस्ट्री नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के रडार पर है। सीसीबी ने 21 सितम्बर के बाद फरार आदित्य और दो अन्य के ख़िलाफ़ लुक आउट नोटिस जारी किया था।