महंगाई के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन, प्रियंका को टांगकर ले गए पुलिसकर्मी

27

नई दिल्ली। Congress protest against inflation: महंगाई व बेरोजगारी के खिलाफ आज कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने संसद भवन से राष्ट्रपति भवन के लिए मार्च निकालने की कोशिश की। हालांकि पुलिस ने उन्हें रोक दिया। इस दौरान जमकर हंगामा देखने को मिला। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी भी पार्टी मुख्यालय से बाहर आ गईं। पुलिस ने उन्हें रोकने के लिए बैरिकेड लगाए थे, लेकिन वह उसे फांदकर आगे बढ़ गईं। इस दौरान भारी संख्या में पुलिसकर्मी मौके पर मौजूद थे।

प्रियंका गांधी सड़क पर ही धरने पर बैठ गईं। हंगामा बढ़ता देख पुलिस ने प्रियंका को कांग्रेस मुख्यालय के बाहर से ही हिरासत में लिया। वीडियो में दिख रहा है कि कई महिला पुलिसकर्मी प्रियंका को उठाकर पुलिस वैन में लेकर जा रही हैं। इस दौरान प्रियंका खुद को छुड़ाने की कोशिश करती भी नजर आ रही हैं।

प्रियंका गांधी के भाई और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को भी हिरासत में लिया गया है। राहुल गांधी की अगुवाई में ही कांग्रेस सांसदों ने संसद भवन से राष्ट्रपति भवन के लिए मार्च निकाला। हालांकि पुलिस ने उन्हें बीच में ही रोक दिया और हिरासत में ले लिया। कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) के सदस्यों और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की प्रधानमंत्री आवास का ‘घेराव करने’ की योजना थी। पार्टी के कई नेता और कार्यकर्ता इसी के लिए कांग्रेस मुख्यालय में जमा हुए थे।

सोनिया गांधी भी प्रदर्शन में शामिल हुईं: संसद भवन से पार्टी सांसदों का मार्च शुरू होने से पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी भी इसमें थोड़ी देर के लिए शामिल हुईं। हिरासत में लिए जाने से पहले राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि देश में लोकतंत्र की हत्या की जा रही है। राहुल ने ट्वीट किया, ‘इस तानाशाह सरकार को डर लग रहा है। भारत के हालत से, कमरतोड़ महंगाई और ऐतिहासिक बेरोजगारी से, अपनी नीतियों से लाई बर्बादी से। जो सच्चाई से डरता है, वो ही आवाज उठाने वालों को धमकाता है!’

पुलिस ने प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी: दिल्ली पुलिस ने नयी दिल्ली जिले में निषेधाज्ञा लागू होने का हवाला देते हुए शुक्रवार को राष्ट्रीय राजधानी में कांग्रेस को प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी थी। राहुल गांधी को हिरासत में लिए जाने पर नई दिल्ली की डीसीपी अमृता गुगुलोथ ने कहा, ‘हमने उनको हिरासत में लिया है क्योंकि यहां धारा 144 लागू है और धरना प्रदर्शन करने की अनुमति नहीं है। हमने उनको सूचित भी किया था लेकिन वे नहीं माने इसलिए हमने उनको हिरासत में लिया है।’