जेईई मेन जुलाई 21 पेपर एनालिसिस: फिजिक्स मुश्किल, मैथ्स लेंदी व कैमिस्ट्री आसान रहा

0
132

कोटा। देश की सबसे बड़ी इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा जेईई-मेन 2021 का तीसरा अटैम्प्ट देश-विदेश के 334 शहरों में मंगलवार से प्रारंभ हुआ। बीई-बीटेक के लिए यह परीक्षा कम्प्यूटर बेस्ड मोड पर दो पारियों में हुई। एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट के निदेशक बृजेश माहेश्वरी सर ने बताया कि स्टूडेंट्स के फीडबैक एवं सीसेट पर प्राप्त रिस्पाॅन्सेज के आधार पर पेपर का एनालिसिस किया गया है।

मंगलवार को हुए पेपर में सुबह की पारी का पेपर ओवरऑल लेन्दी था। फिजिक्स सबसे कठिन, कैमिस्ट्री सबसे आसान रही। जबकि मैथ्स का पेपर कैलकुलुटिव ज्यादा होने से स्टूडेंट्स को पेपर साॅल्व करने में समय ज्यादा लगा। कैमिस्ट्री व फिजिक्स में एसरशन – रीजन आधारित प्रश्न पूछे गए थे। इस बार स्टूडेंट्स को यह सुविधा दी गई है कि रीजनल या इंग्लिश लैंग्वेज में प्रश्न की भाषा स्पष्ट नहीं है तो स्टूडेंट सुविधानुसार पेपर का मीडियम परिवर्तित कर सकता है। यह प्रक्रिया कितनी भी बार अपनाई जा सकती है। जेईई मेन के पेपर में यह सुविधा स्टूडेंट्स को पहली बार दी गई है। शाम की पारी में कैमिस्ट्री आसान, मैथ्स लेन्दी व फिजिक्स सुबह की तुलना में आसान रही।

कैमिस्ट्री: सुबह की पारी में कैमिस्ट्री का पेपर आसान रहा। विद्यार्थियों के अनुसार कैमिस्ट्री का पेपर एनसीईआरटी बेस्ड रहा। फिजीकल कैमिस्ट्री में ज्यादातर सवाल इंटीजर सेक्शन से रहे। मोल कंसेप्ट से कुछ अच्छे सवाल पूछे गए थे। इसके अलावा फिजीकल में लिक्विड साॅल्युशन, थर्मो व काइनेटिक्स टाॅपिक्स को कवर किया गया। ऑर्गेनिक कैमिस्ट्री में आईयूपीएसी, जीओसी, पाॅलीमर से सवाल आए। इसके अलावा टाॅल्युइन रीजेन्ट, विलिम्सन इथर सिंथेसिस व कुछ अन्य अच्छे सवाल रीजेन्ट्स से पूछे गए थे। इसी प्रकार इनऑर्गेनिक कैमिस्ट्री में कुछ अच्छे सवालों का समावेश रहा।

काॅर्डिनेशन कैमिस्ट्री में सीएफटी व वीबीटी, मेटलर्जी से डिस्टिलेशन, साॅल्ट एनालिसिस में काॅपर नाइट्रेट, एनवायरमेन्टल में ग्रीन कैमिस्ट्री को रखते हुए अधिकांश सवाल ब्लाॅक कैमिस्ट्री से पूछे गए। शाम की पारी में जेईई मेन के टाॅपिक्स कैमिस्ट्री एवरीडेलाइफ व एनवायरमेन्टल टाॅपिक से एक-एक, इनऑर्गेनिक कैमिस्ट्री में हाइड्रोजन के उपयोग, काॅर्डिनेशन कैमिस्ट्री व काॅपर प्लस टू की पोटेशियम आयोडाइड से अभिक्रिया व ऑर्गेनिक कैमिस्ट्री में रिएक्शंस पर आधारित प्रश्न पूछे गए। फिजिकल कैमिस्ट्री में इक्विलीब्रीयम में केएसपी, सरफेस कैमिस्ट्री जैसे टाॅपिक कवर किए गए थे।

फिजिक्स: विद्यार्थियों के अनुसार यह पेपर मोडरेट से टफ था और इसमें एनसीईआरटी 11वीं व 12वीं कक्षा के सिलेबस से उचित संयोजन कर पेपर में सवाल पूछे गए थे। न्यूमेरिकल आधारित सवाल ही थे जबकि थ्योरिकल सवाल नहीं थे। मैकेनिक्स से सबसे ज्यादा सवाल पूछे गए थे। ऑप्टिस से दो, अल्टरनेट करंट से 2-3, इएमआई से एक व माॅडर्न फिजिक्स से 2-3 सवालों का समावेश रहा। जबकि फ्लुइड, मेग्नेटिज्म व एसएचएम से सवाल नहीं थे।

जेईई मेन के टाॅपिक्स प्रिंसीपल ऑफ कम्यूनिकेशन से जीनर डायोड से संबंधित प्रश्न था। जबकि शाम की पारी में थ्योरिकल व न्यूमेरिकल दोनों तरह के प्रश्नों का समावेश था। इसमें ऑप्टिक्स से 1, मैकेनिक्स से 2-3, इलेक्ट्रोस्टेट से 2-3 व माॅडर्न फिजिक्स से 2 प्रश्न पूछे गए थे। जीनर डायोड से संबंधित प्रश्न शाम की पारी में भी पूछा गया था।

मैथ्स: मैथ्स के पेपर में कुछ सवाल पिछले वर्षों के जेईई मेन व एडवांस्ड के पेपर्स से देखने को मिले। पेपर लेन्दी होने से विद्यार्थियों को सबसे ज्यादा समय मैथ्स का पेपर साॅल्व करने में खर्च हुआ। कैलकुलस व वेक्टर थ्री डी से सबसे ज्यादा सवाल आए। विद्यार्थियों के अनुसार सुबह की पारी में डिफरेन्शिएशन से सवाल नहीं थे। इसके अलावा तीन-चार प्रश्न कोनिक सेक्शन से आए। जेईई मेन के टाॅपिक से सेट एंड रिलेशन, बाइनोमियल, प्रोबेबिलिटी, मीन व बुलीयन एक्सपे्रशन से सवाल पूछे गए। शाम की पारी में इंटीजर पार्ट में सभी प्रश्न लेन्दी थे जबकि ऑब्जेक्टिव सेक्शन में आसान व कठिन प्रश्नों का समावेश रहा।