उत्पादन क्षमता बढ़ाकर कोविड अस्पतालों में ऑक्सीजन सप्लाई दे रहा श्री सीमेंट

0
131

जयपुर। इन दिनों पूरे भारत में ऑक्सीजन की कमी को पूरा करने के लिए अपने ऑक्सीजन संयंत्रों में 100 प्रतिशत उत्पादन क्षमता को बढ़ाते हुए भारत की शीर्ष सीमेंट निर्माता कंपनी श्री सीमेंट निरंतर कार्य कर रहा है। श्री सीमेंट की तरफ से राजस्थान, कर्नाटक, बिहार, ओडिशा और छत्तीसगढ़ में अपनी उत्पादन इकाइयों से पूरे भारत के अस्पतालों में ऑक्सीजन सिलेंडर की निरंतर सप्लाई कर रहा है। कंपनीे देशभर के सभी संयंत्रों के जरिये मुफ्त ऑक्सीजन सिलिंडरों को रिफिल किया जा रहा हैं, जिससे ऑक्सीजन की कमी को काफी हद तक दूर किया जा सके।

मौजूदा समय में पूरे भारत में कोविड -19 के खिलाफ बड़े पैमाने पर टीकाकरण कार्यक्रम चल रहा है, भारत अभी कोविड-19 वायरस के अधिक संक्रमणीय उत्परिवर्ती वेरिएंट की दूसरी लहर की चपेट में आ चुका है, जिसके कारण इससे संक्रमित होनेवाले मरीजों की संख्या में अचानक वृद्धि हुई है। अचानक मरीजों में वृद्धि होने के कारण देशभर के प्रायः सभी अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी देखी जा रही है।

कोविड -19 का यह उत्परिवर्ती वेरिएंट वायरस, संक्रमित मरीजों को सांस लेने में काफी समस्या उत्पन्न करता है, क्योंकि इस संक्रमणीय उत्परिवर्ती वेरिएंट की दूसरी लहर की चपेट में आनेवाले मरीजों के फेफड़ों में सूजन होने लगती है, जिससे उन्हें सांस लेने में तकलीफ होने लगती है। इन रोगियों को ऑक्सीजन सपोर्ट की अत्यंत आवश्यकता होती है। इसके कारण ऑक्सीजन की आपूर्ति लगातार बढ़ाई जा रही है।

कंपनी ने हमेशा कारोबार से ऊपर लोगों की सुरक्षा उनके स्वास्थ हमेशा महत्व दिया है। इसी जिम्मेदारी के तहत सभी इकाइयों से ऑक्सीजन की निरंतर आपूर्ति बनाए रखने का संकल्प लिया है। इसी संकल्प के तहत पिछले साल कंपनी ने राजस्थान में पाली जिले के सरकारी अस्पताल में कोविड-19 मरीजों के लिए एक समर्पित वार्ड का निर्माण किया गया था। मौजूदा समय में यह वार्ड मरीजों की बेहतर तरीके से देखभाल कर उन्हें स्वस्थ करने में एक महत्वपूर्ण इकाई के रूप में कार्य कर रहा है।

श्री सीमेंट की कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी (सीएसआर) टीम के सदस्य गाँवों में महिलाओं को साथ लेकर काम कर रही है। जिससे उन्हें इन कठिन घड़ी में आय का स्रोत उपलब्ध कराया जा सके। कंपनी के सीएसआर टीम के सदस्य कोविड सुरक्षा प्रोटोकॉल को मानकर लोगों के बीच जाकर उनके बीच कोविड-19 के बारे में जागरूकता पैदा कर रही है, और जरूरत पड़ने पर दूरदराज के गांवों में जाकर लोगों को चिकित्सा सहायता और एम्बुलेंस उपलब्ध करा रही है।