बैंक कर्मी संगठन AIBEA कल मनाएगा 75वीं वर्षगांठ

0
569

कोटा। देश का सबसे बड़ा तथा सबसे पुराना बैंक कर्मी संगठन एआईबीईए (AIBEA) का कल 76वां स्थापना दिवस है। एआईबीईए के केंद्रीय समिति सदस्य ललित गुप्ता, राजस्थान प्रदेश बैंक एम्प्लाइज यूनियन के जिला सचिव पदम पाटोदी, सहायक महासचिव डीएस साहू, क्षेत्रीय सचिव आरबी मालव, बैंक कर्मी नेता अनिल ऐरन, पीसी गोयल, डीके गुप्ता, मुरली गुप्ता, यतीश शर्मा ने एक विज्ञप्ति जारी कर बताया कि 20 अप्रेल 1946 को जब एआईबीईए की स्थापना हुई उस वक्त बैंक कर्मियों की कोई सेवा शर्तें नहीं थी। बैंक प्रबंधन “हायर एंड फायर” की नीति अपनाता था।

एआईबीईए के संघर्ष से बैंककर्मियों ने वेतनमान एवं सेवा शर्तों में अवार्ड व ट्रिब्यूनल के दौर से निकल कर स्वयं आमने सामने वार्ता कर द्विपक्षीय समझौते की प्रणाली हासिल की जो आज भी जारी है।

एआईबीईए के लगातर आंदोलन से बैंक राष्ट्रीयकरण का मार्ग प्रशस्त हुआ। बैंक कर्मियों को पेंशन योजना एआईबीईए के दूरदर्शिता का परिणाम है।वर्तमान में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के विलय एवं निजीकरण के विरोध में संघर्षरत है।

बैंक कर्मी नेताओं ने बताया कि कॅरोना के दूसरे दौर के कारण स्थापना दिवस सादगी पूर्वक शाखा स्तर पर मनाया जाएगा। बैंककर्मी बैंक कार्य शुरू होने से पूर्व अथवा भोजनावकाश में एकत्रित होकर संगठन को मजबूत करने एवं संगठन के आव्हान को सफल बनाने,सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को मजबूत करने,बैंक निजीकरण का विरोध करने,मजदूर एकता बढ़ाने तथा बेहतर ग्राहक सेवा का संकल्प लेंगे।