कोटा में कुन्हाड़ी, विज्ञाननगर सीएचसी को बनाया जाएगा मॉडल सीएचसी: धारीवाल

0
202

कोटा। राज्य सरकार चिकित्सा सुविधाओं में बढ़ोतरी को लेकर लगातार प्रयासरत है। कोरोना (Corona) की प्रदेश में दस्तक के साथ ही सरकार ने अहम फैसले लेकर सरकार के अति संवेदनशील होने की बात पूरे देश के सामने रखी थी। राजस्थान मॉडल की देशभर में तारीफ भी हुई थी। आमजन को बेहतर चिकित्सा सुविधा मिले इसके लिए सरकार ने कोटा के लिए एक और महत्वपूर्ण निर्णय लिया है।

यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने बताया कि सरकार ने निर्णय लिया है कि कोटा शहर की कुन्हाड़ी और विज्ञाननगर सीएचसी को मॉडल सीएचसी बनाया जाएगा। ग्रामीण इलाके की एक कैथून या मंडाना में से मॉडल सीएचसी सरकार बनाने जा रही है।

इंदिरा रसोई से मिलेगा संक्रमितों को निःशुल्क भोजन : राज्य में अस्पतालों-आईसोलेशन सेंटर्स या कोविड केयर सेंटर्स में उपचाराधीन कोरोना संक्रमितों को अब इन्दिरा रसोइयों से निःशुल्क भोजन मिलेगा। स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल के अनुसार जिला प्रशासन-चिकित्सालयों की मांग पर कोविड संक्रमितों को भी शुद्ध व पौष्टिक भोजन निःशुल्क उपलब्ध कराया जाएगा, इसके लिए विशेष व्यवस्था की गई है। धारीवाल ने बताया कि नगरीय निकायों एवं जिला कलेक्टर्स को शक्तियां प्रदान की गई हैं, वे आवश्यकतानुसार अस्पताल-आईसोलेशन सेन्टर या कोविड केयर सेन्टर में इन्दिरा रसोई का एक्सटेंशन काउन्टर भी खोल सकते हैं।

चिकित्सा सुविधाओं में विस्तार: मंत्री धारीवाल ने बताया कि कोटा शहर में चिकित्सा व्यवस्थाओं में लगातार की जा रही बढ़ोतरी के मद्देनजर इन दोनों सीएचसी काे मॉडल सीएचसी बनाने के लिए सुविधाओं में बड़ा विस्तार किया जाएगा। आधुनिक मशीनों, संसाधनों के साथ बेड की संख्या में बढ़ोतरी, अतिरिक्त स्टाफ की तैनाती होगी। शहर की विज्ञाननगर और कुन्हाड़ी स्वास्थ्य केंद्रों पर हर वह सुविधा मुहैया करवाई जाएगी कि कैसी भी परिस्थिति में रोगी पहुंचे ताे उसका बेहतर इलाज मुहैया हो सके। साथ ही ग्रामीण क्षेत्र की मंडाना और कैथून में से किसी एक को मॉडल सीएचसी बनाने की प्रक्रिया को जल्द शुरू किया जाएगा।