अर्थव्यवस्था को सुचारु करने में सीएमए एवं कॉमर्स की अहम भूमिका :ओम बिरला

0
398

कोटा। भारतीय लागत लेखाकार संस्थान (इंस्टीट्यूट ऑफ कॉस्ट अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया-आईसीएआई) के कोटा, जयपुर, उदयपुर, जोधपुर, ब्यावर, अजमेर- भीलवाड़ा एवं बीकानेर- झुंझुनू चैप्टर के संयुक्त तत्वावधान में वर्तमान कोविड-19 में सीएमए की भूमिका एवं कॉमर्स में कैरियर पर शनिवार को एक ऑनलाइन संगोष्ठी का आयोजन किया गया। कोटा चैप्टर के चेयरमैन सीएमए आकाश अग्रवाल ने बताया कि राजस्थान के सातों चैप्टर ने मिलकर इस संगोष्ठी का आयोजन किया, जिसमें मुख्य अतिथि लोकसभा अध्यक्ष एवं सांसद ओम बिरला थे।

इस अवसर पर लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत बनाने के सपने के लिए एवं अर्थव्यवस्था में आई रुकावट को दूर करने के लिए कॉमर्स की महती भूमिका है। उन्होंने देश में बढ़ते हुए कोरोना संक्रमण के प्रति भी आगाह किया। कोरोना के विस्तार की रफ्तार बहुत तीव्र है और उसे रोकने के लिए सरकार को कई कदम उठाने पड़ रहे हैं।

कॉमर्स हर फील्ड में उपयोगी: एसएमएल इसुजु के चीफ जनरल मैनेजर सीएमए राकेश भल्ला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं सरकार द्वारा कोविड काल में किए गए प्रयासों की सराहना की। राजस्थान यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रोफेसर राजीव जैन ने कॉमर्स के प्रति छात्रों की बढ़ती रुचि उपलब्ध कोर्स एवं कैरियर की ऑप्शन पर अपने विचार रखें । जेएनयू जोधपुर के वाइस चांसलर प्रोफेसर बीएस राजपुरोहित ने बताया कि कोविड ने हमें एक बात सिखाई है कि हम कम संसाधनों में भी कैसे जी सकते हैं। सीएमए कोर्स में भी यही सिखाया जाता है कैसे उपलब्ध संसाधनों का प्रभावोत्पादक प्रयोग किया जाए। कॉमर्स हर फील्ड में उपयोगी है।

सीएमए राजू अय्यर ने बताया कि सीएमए की उपयोगिता बड़ी इंडस्ट्रीज में ही नहीं अपितु सूक्ष्म एवं लघु उद्योग के लिए भी है। इसकी महत्ता को देखते हुए संस्थान द्वारा एमएससी सेंटर की स्थापना कर एसएमई के समस्याओं के समाधान हेतु कार्य किया जा रहा हैं। साथ ही अप्रैल माह को एसएमई माह घोषित कर इसके लिए विभिन्न सेमिनार केंद्र सरकार में माइक्रो स्मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज के मंत्री नितिन गडकरी के सानिध्य में किए जाएंगे। सीएमए प्रेसिडेंट सीएमए बिश्वरूप बासु ने सरकार की पारदर्शी व्यापारी प्रणाली को लागू करने में सीएमए की भूमिका पर अपने विचार रखें। साथ ही इंस्टीट्यूट द्वारा किए जा रहे प्रोफेशनल डेवलपमेंट कार्यों के बारे में बताया।

सीएमए की डिग्री पीएचडी के लिए भी मान्य: सीएमए रवि कुमार साहनी ने बताया कि सीएमए किस प्रकार अपने ज्ञान के आधार पर इन समस्याओं के समाधान के लिए कार्य कर सकता है । सीएमए डॉक्टर मीनू माहेश्वरी ने कॉमर्स में मनी मैनेजमेंट की महत्वता पर प्रकाश डालते हुए बताया कि कॉमर्स में कॉलेज की पढ़ाई के साथ कई प्रोफेशनल कोर्स भी उपलब्ध है एक कॉमर्स छात्र सीएमए, सीए, सीएस, एमबीए, टैक्स प्रैक्टिशनर्स आदि कई कोर्स कर सकता है साथ ही सीएमए की डिग्री अब पीएचडी के लिए भी मान्य हैं।

कोरोना काल में सीएमए की सहभागिता बढ़ी: संगोष्ठी के कोऑर्डिनेटर सीएमए सत्यनारायण मित्तल ने बताया कि भारतीय लागत लेखाकार संस्थान कोलकाता के 85 हजार से अधिक मेंबर हैं एवं 5 लाख से अधिक छात्र इसको उसको कर रहे हैं। कोरोना काल में जब अर्थव्यवस्था में भारी गिरावट है। तब सीएमए की सहभागिता बढ़ गई है। इसी विषय पर राजस्थान के सातों चैप्टर द्वारा मिलकर इस संगोष्ठी का ऑनलाइन आयोजन किया गया। जिसमें पूरे भारत से 3000 से अधिक सदस्य सम्मिलित हुए। इस कार्यक्रम का संचालन में सीएमए राजेंद्र सिंह भाटी द्वारा किया गया।