विहिप के आह्वान पर बंद रहा छबड़ा कस्बा, आगजनी से हुए नुकसान का मुआवजा मिले

0
172

कोटा। राजस्थान प्रदेश का बारां जिला राज्य सरकार के कोविड-19 वीकेंड डाउन के शुरू होने के पहले शुक्रवार को बंद रहा। बारां जिले को शुक्रवार को विश्व हिंदू परिषद के द्वारा बंद करवाया गया। विश्व हिंदू परिषद का जिले के छबड़ा कस्बे में गत शनिवार को चाकूबाजी की घटना के बाद दो पक्षों में हुए गहरे विवाद और रविवार को उससे उपजे उपद्रव मामले में पुलिसिया रवैये के खिलाफ ये इस बंद का आव्हान किया था। विहिप ने पुलिस के द्वारा की जा रही गिरफ्तारी की कार्रवाई के विरोध में जिले को बंद करवाया गया था।

विहिप का आरोप है कि पुलिस सरकार के संरक्षण दबाव में आकर विहिप के निर्दोष कार्यकर्ताओं -पदाधिकारियों को मामले में दोषी मानते हुए गिरफ्तार कर रही है। जबकि विहिप के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं का उपद्रव से कोई लेना देना नहीं है। इसी क्रम में विहिप की ओर से छबड़ा और बारां जिले को बंद रखवाया था। उन्होंने राज्यपाल से मामले में दखल करते हुए पुलिस के द्वारा गिरफ्तार किए गए विहिप पदाधिकारियों कार्यकर्ताओं को रिहा करने की मांग की।

बजरंग दल चित्तौड़ प्रांत के सह संयोजक योगेश रेनवाल ने दावा किया कि विश्व हिंदू परिषद के द्वारा शुक्रवार को संपूर्ण बारां जिला बंद रहा। जिले के व्यापारियों ने बंद को पूरी तरह से समर्थन दिया। विहिप ने सरकार से मांग की है कि उपद्रव के दौरान तोड़फोड़, आग व लूट से जो नुकसान हुआ है पीड़ित लोगों को उसकी भरपाई सरकार करें।

कई जगह दुकानें खुली
इधर सूचना यह है कि 12 बजे के बाद जिले के कई कस्बों के बाजार खुले। खबर यह भी रही कि बंद के दौरान मध्य प्रदेश बॉर्डर स्थित शाहाबाद कस्बा खुला रहा। बारां जिले के पुलिस अधीक्षक विनीत बंसल ने बताया कि बंद शांतिपूर्ण रहा। जिले भर में सभी कस्बों में पुलिस ने कानून व्यवस्था को देखते हुए पुलिस जाब्ता भी तैनात किया था।

छबड़ा में छठे दिन भी जारी रहा कर्फ्यू
उल्लेखनीय है कि शनिवार को चाकूबाजी की घटना के बाद रविवार को छपरा कस्बे में उपजे उपद्रव मामले में प्रशासन को स्थिति काबू में पाने के लिए छह दिन कस्बे में कर्फ्यू लगाए रखना पड़ा। कस्बे में शांति व्यवस्था कायम करने के लिए जिला प्रशासन के द्वारा लगाया गया कर्फ्यू शुक्रवार को छठे दिन भी जारी रहा। अब प्रशासन ने कर्फ्यू में दूध की सप्लाई अखबार की सप्लाई शुरू करवाई है। लेकिन छठे दिन भी कर्फ्यू पूरी तरह से सख्त रहा। पुलिस अधीक्षक विनीत बंसल ने एनबीटी को बताया कि गुरुवार को पुलिस ने दबिश देते हुए उपद्रव फैलाने के मामले में दोषी 16 लोगों को गिरफ्तार किया है। अब तक छबड़ा उपद्रव फैलाने के मामले में पुलिस ने 41 लोगों को गिरफ्तार किया है। वहीं छबड़ा कस्बे में सहित पूरे जिले भर में कानून शांति व्यवस्था कायम करने के लिए जिला प्रशासन के द्वारा 17 अप्रैल शाम 4 बजे तक इंटरनेट सेवा को बंद रखा गया है।