ग्रीन सिग्नल के बाद भी क्यों खड़ी रही सचिन वझे की मर्सिडीज, NIA ने खोला राज

0
117

मुंबई। 25 फरवरी को उद्योगपति मुकेश अंबानी के आवास के पास स्कॉर्पियों में विस्फोटक मिला था, इससे पहले 17 फरवरी को वझे ने मनसुख हीरेन से मुलाकात की थी। यह मुलाकात बहुत ही सीक्रेट तरीके से की गई थी। सीसीटीवी फुटेज के आधार पर एनआईए और एटीएस की जांच से पता चला है कि 17 फरवरी को फोर्ट में जीपीओ के पास हीरन और वझे की मर्सिडीज में 10 मिनट की बातचीत हुई थी। हीरेन वहां से एक ओला कैब में दक्षिण मुंबई की तरफ गए थे। सीसीटीवी फुटेज में दिखा कि वझे मर्सिडीज में मुंबई पुलिस मुख्यालय से निकले, जहां उनका ऑफिस था।

कार में आकर बैठा हीरेन
वझे का वाहन फिर से मुख्य ट्रैफिक सिग्नल पर CSMT के बाहर देखा गया। सिग्नल हरा था, लेकिन मर्सिडीज आगे नहीं बढ़ी और वझे ने वाहन की पार्किंग लाइट जलाई। कुछ सेकंड के बाद, कैमरे में हीरेन को सड़क पार करते हुए देखा गया। वह मर्सिडीज में आकर बैठ गया। इस मर्सिडीज को जीपीओ के विपरीत और सड़क किनारे खड़ा किया गया। लगभग 10 मिनट के बाद हीरेन कार से उतरा। उसके बाद मर्सिडीज पुलिस मुख्यालय में प्रवेश करते दिखी।

हीरेन को कैब में आए 5 कॉल्स
इधर हीरेन ने CSMT की ओर जाने के लिए ओला कैब यूज की। ओला के ड्राइवर ने एटीएस ने बताया कि कैब में यात्रा के दौरान हीरेन को पांच फोन कॉल्स आए। माना जा रहा है कि ये कॉल्स वझे के थे। वझे ने हीरेन को पुलिस मुख्यालय के सामने स्थित रूपम शोरूम के बाहर बुलाया लेकिन लास्ट फोन कॉल के दौरान उसने जगह बदलकर CSMT कर दिया। जांच एजेंसियों ने इन सीसीटीवी फुटेज को प्रिजर्व करने के लिए एलएंडटी से संपर्क किया है।

दो और लग्जरी गाड़ियां बरामद
एनआईए ने गुरुवार को दो और लग्‍जरी गाड़‍ियां जब्‍त कीं जिनका इस्‍तेमाल सचिन वझे करता था। इनमें से एक प्राडो है जो रत्‍नाग‍िरी के एक शिवसेना कार्यकर्ता विजयकुमार गणपत भोंसले के नाम है। दूसरी मर्सिडीज बेंज है। ठाणे के व्‍यापारी मनसुख हिरेन की मौत की जांच कर रही महाराष्‍ट्र एटीएस शुक्रवार को सचिन वझे की कस्‍टडी मांगने वाली है।

मर्सिडीज मालिक बोला, बेच दी थी
16 मार्च को जब्त की गई मर्सिडीज के मालिक सुरेश भावसार ने कहा है कि उन्होंने फरवरी में वाहन को कार ट्रेडिंग साइट को बेच दिया था और उनका वझे के साथ कोई संबंध नहीं था। एनआईए ने गुरुवार को CIU के दो कर्मियों के बयान भी दर्ज किए, जहां वझे काम करते थे। इसके अलावा अपराध शाखा के नौ कर्मियों के बयान दर्ज किए गए।

13-14 मार्च को पार्क की गई थी मर्सिडीज
फरेंसिक विशेषज्ञों की टीम दक्षिण मुंबई में NIA कार्यालय पहुंची। यह पता चला है कि क्रैफोर्ड मार्केट के पास जेजे स्कूल ऑफ आर्ट्स के पास बीएमसी पार्किंग स्थल से 16 मार्च को वझे की जो मर्सिडीज जब्त की गई थी, उसे वझे के ड्राइवर ने 13 या 14 मार्च को पार्क किया था। कार को जब्त करने के बाद एनआईए ने पार्किंग ठेकेदार को नोटिस जारी कर अपने बयान दर्ज कराने को कहा है। सूत्रों ने कहा कि मर्सिडीज को कई बार इस जगह पर खड़ा किया जाता था, उसे पार्क करने के लिए ड्राइवर आता था।