हड़ताल से सार्वजनिक बैंकों के ताले नहीं खुले, 600 करोड़ रुपए का कारोबार प्रभावित

0
482

कोटा। बैंकों के निजीकरण के प्रस्ताव के विरोध में सोमवार को दो दिवसीय राष्ट्रव्यापी हड़ताल के पहले दिन सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में ताले भी नहीं खुले। हड़ताल में चतुर्थ श्रेणी के कमर्चारी से लेकर अधिकारी तक शामिल रहे। इससे शहर के बैंकों में करीब 600 करोड़ रुपयों का कारोबार प्रभावित प्रभावित हुआ है।

बैंक निजीकरण का प्रस्ताव आम जन एवं बैंक कर्मियों दोनों के लिए ही नुकसानदायक है। इसे सरकार को तुरंत वापस लेना चाहिए। इसी मांग को लेकर बैंक कर्मी एवं अधिकारियों का रोष स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की एरोड्राम सर्किल शाखा के सामने देखने को मिला। जहा सैंकड़ों हड़ताली बैंक कर्मचारियों एवं अधिकारियों ने नारे लगाते हुए हुए सरकार के इस कदम का विरोध किया।

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस के संयोजक पदम पाटोदी ने बताया कि सफाई कर्मचारी से लेकर सहायक महाप्रबंधक तक के अधिकारियों के हड़ताल पर होने से किसी भी बैंक शाखा का ताला नहीं खुला। बैंकिंग संबंधी सारी गतिविधियां ठप्प हो गई। नगदी लेनदेन,अंतरण, क्लियरिंग, ऋण वितरण आदि सभी काम बंद रहे। उन्होंने दावा किया है कि एक अनुमान के अनुसार दो दिनों में 1000 करोड़ रुपयों से अधिक का कारोबार प्रभावित हो सकता है।

हड़ताल में क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक कर्मचारी एवं अधिकारी भी शामिल हुए। बैंक कर्मी एवं अधिकारी नेताओं ने अपने संबोधन में बैंक निजीकरण से किसानों, छोटे व्यापारियों को मिलने वाले ऋणों में कमी, बैंकों में जमा बचत का उपयोग आमजन के बजाए कारपोरेट घरानों द्वारा लेने, बैंक प्रभारों में वृद्धि तथा निजी मालिकों द्वारा स्थायी रोजगार तथा ठेकेदारी प्रथा चालू होने जैसी विसंगतियां होने का सीधा आमजन पर असर पड़ेगा। अतः सभी को इस हड़ताल का समर्थन करना चाहिए। हड़ताल को केंद्रीय श्रम संगठनों, बीमा कर्मियों एवं किसान संगठनों के नेताओं ने भी प्रदर्शन स्थल पर आकर समर्थन दिया।

बैंक कर्मी नेताओं ने बताया कि आजादी के बाद कई निजी बैंक बंद हो चुके हैं। उन्होंने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को और मजबूत करने की मांग की। प्रदर्शन कारियों को बैंक कर्मी एवम अधिकारी नेता ललित गुप्ता, आर के जैन, पदम पाटोदी, रमेश सिंह, संजीव झा, प्रमोद माथुर, डीएस साहू, आरबी मालव, अरविंद मीणा, आई एल मीणा, मोहम्मद शाहिद, विमलेश कुमार, अनिल ऐरन, डीके गुप्ता, हेमराज सिंह गौड़, विपिन चोरायवाल, छोटू लाल मीणा, पीके सिंह, हेमराज धाकड़ ग्रामीण बैंक कर्मी नेता आरएस मीणा तथा महेश शर्मा ने भी संबोधित किया। वरिष्ठ मजदूर नेता महेंद्र नेह, बीमाकर्मी नेता मंजीत वालिया, टीजी विजयकुमार किसान नेता जितेंद्र कुमार ने भी संबोधित किया।

कल बैंक ऑफ बड़ौदा शाखा पर सभा
यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस के संयोजक पदम पाटोदी ने बताया कि हड़ताली बैंक कर्मी एवं अधिकारी मंगलवार को प्रातः 10 बजे बैंक ऑफ बड़ौदा झालावाड़ रोड कोटा शाखा के सामने एकत्रित होकर प्रदर्शन एवम सभा करेंगे उसके बाद सभा स्थल से रैली के रूप में छावनी चौराहा होते वापस आएंगे।