फरवरी में थोक महंगाई दर बढ़कर पहुंची 4.17 फीसदी पर

0
133

नई दिल्ली।थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति (WPI) लगातार दूसरे माह बढ़कर फरवरी में 4.17 प्रतिशत पर पहुंच गई। खाने-पीने और ईंधन, बिजली के दाम बढ़ने से मुद्रास्फीति बढ़ी है। थोक मुद्रास्फीति एक महीना पहले जनवरी में 2.03 प्रतिशत पर थी, जबकि एक साल पहले फरवरी में यह 2.26 प्रतिशत पर थी। सरकारी आंकड़ों में यह जानकारी दी गई।

कई माह तक लगातार नरम पड़ते जाने के बाद फरवरी माह में खाद्य पदार्थों के दाम 1.36 प्रतिशत बढ़ गए। इससे पहले जनवरी में इनमें 2.80 प्रतिशत की गिरावट आई थी। सब्जियों के दाम फरवरी में 2.90 प्रतिशत घट गए, वहीं जनवरी में इनके दाम 20.82 प्रतिशत नीचे गए थे। दालों की यदि बात की जाए तो फरवरी में दालों के दाम 10.25 प्रतिशत बढ़ गए। वहीं फलों के दाम 9.48 प्रतिशत और बिजली समूह की मुद्रास्फीति 0.58 प्रतिशत रही।

खुदरा महंगाई बढ़कर 5.03%
खुदरा मुद्रास्फीति की यदि बात की जाए तो फरवरी 2021 में यह बढ़कर 5.03 प्रतिशत रही। खाद्य पदार्थों के दाम बढ़ने से खुदरा मुद्रास्फीति बढ़ी है। एक माह पहले जनवरी में उपभोक्ता मूलय सूचकांक (सीपीआई) आधारित मुद्रास्फीति 4.06 प्रतिशत पर थी। रिजर्व बैंक ने पिछले महीने मौद्रिक नीति की घोषणा करते हुए ब्याज दरों को अपरिवर्तित रखा था। यह लगातार चौथी समीक्षा थी, जिसमें दर में कोई बदलाव नहीं किया गया।