आदर्श क्रेडिट घोटाला :लोगों के जीवन भर की कमाई को हडपने नहीं देंगें

0
830

कोटा। आदर्श क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटी के पीड़ित निवेशकों और अभिकर्ताओं को व्यापक जन समर्थन मिलने लगा है। गुरूवार को कोटा व्यापार महासंघ के महासचिव अशोक माहेश्वरी एवं कांग्रेस के राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य पंकज मेहता ने बैठक मे पहुंच कर निवेशकों की मुहिम को अपना समर्थन दिया। मेहता ने कहा कि हजारों निवेशकों के करोड़ों रुपए जीवन भर की कमाई को कोई हड़प जाए, इससे बड़ी शर्मनाक बात क्या होगी।

उन्होंने कहा कि आदर्श पीड़ितों की मांग मुख्यमंत्री तक पहुंचाई जाएगी। संघर्ष में हर संभव मदद की जाएगी। अशोक माहेश्वरी ने कहा कि व्यापार महासंघ आपकी पीड़ा को समझता है। आपकी आवाज को उठाने में हम पीछे नहीं रहेंगे। सरकार अपनी जिम्मेदारी से बच नहीं सकती। जनप्रतिनिधियों को विधान सभा व लोकसभा में भी आवाज बुलंद करनी चाहिए।

कोटा में निवेशकों के 800 करोड़ डूबे
कोटा में ही 1500 निवेशकों को लगभग 800 करोड़ रुपया फंस गया है। देश में 14 हजार करोड़ का घोटाला है। विनोद चतुर्वेदी ने कहा कि अधिकारियों व जन प्रतिनिधियों का घेराव किया जाए। तलवंडी सेक्टर-4 के सोमेश्वर महादेव मंदिर सभागार में आयोजित बैठक में आदर्श पीड़ित निवेशकों की संघर्ष समिति के समन्वयक सीएम वर्मा एवं सह समन्वयक हरीश शर्मा ने चेतावनी दी कि जन प्रतिनिधियों को अपनी जिम्मेदारी का निर्वाह करते हुए निवेशकों को मदद करनी चाहिए।

उन्होंने बताया कि शीघ्र ही जिला कलेक्टर के माध्यम से प्रधानमंत्री को ज्ञापन भेजा जाएगा। लोकसभा अध्यक्ष के घर के बाहर धरना दिया जाएगा। मोहन मुरारी सोनी ने आदर्श निवेशकों के विषय पर केंद्र सरकार व राज्य सरकार स्तर की जनकारी देते हुए कहा कि मामला व अदालत जांच एजेंसियों के दायरे में है, लेकिन प्रयास सरकार को ही करना होगा।

आदर्श वेलफेयर ट्रस्ट के मोहन मुरारी सोनी तथा सीएम वर्मा ने बताया कि बैठक में निवेशकों व अभिकर्ताओं की जमा पूंजी को वापस लाने के लिए चल रहे प्रयासों की जानकारी दी जाएगी। आंदोलनात्मक कार्य तथा अदालती कार्रवाई के बारे में अभिकर्ताओं को बताया जाएगा। मुरारी लाल गर्ग ने कहा कि देश व प्रदेश में हर जगह जन प्रतिनिधियों को विरोध का सामना करना पड़ेगा। गत दिनों सदस्यों ने लोकसभा अध्यक्ष से लेकर केंद्र व राज्य सरकार के जनप्रतिनिधियों को ज्ञापन दिए हैं। महिला सदस्यों ने भी बैठक में भाग लिया। सभी ने जन आंदोलन खड़ा करने के समर्थन में हाथ खड़े किए।