गुर्जर आंदोलनकारी सरकार से वार्ता के लिए तैयार, समझाइश के बाद जाम खुला

0
105

भरतपुर। बैकलॉग की भर्तियों समेत 6 सूत्रीय मांगों को लेकर भरतपुर के बयाना में 6 दिन से पटरियों पर जमे गुर्जर शनिवार को सड़कों पर भी आ गए। उन्होंने पीलूपुरा में दिल्ली-मुंबई रेल लाइन के पास सुबह 8 बजे दो जगह झाड़ियां और लकड़ियां डालकर जाम लगा दिया। इसके अलावा सवाई माधोपुर में भी कई जगह सड़कें जाम रखीं। इससे भरतपुर आने वाले ज्यादातर वाहनों को महुआ-छौंकरवाड़ा होकर निकाला गया। हालांकि, 10 घंटे बाद शाम 6 बजे समझाइश के बाद जाम खोल दिया।

इसी बीच, आंदाेलनकारियों और सरकार के बीच सुलह की राह खुल गई है। गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति 7 दिन बाद सरकार से वार्ता के लिए तैयार हो गई है। एक बार बिना वार्ता कर हिंडौन से ही लौटे खेल मंत्री अशाेक चांदना ही दोबारा बातचीत को जाएंगे। वरिष्ठ आईएएस नीरज के. पवन भी दो बार वार्ता कर लौट चुके हैं। कर्नल किरोड़ी बैंसला ने दौसा के सिकंदरा में समाज के लोगों से आंदोलन में सहयोग मांगा। कहा- दो दिन में मांगें नहीं मानी तो 9 नवंबर से पूरे प्रदेशभर में चक्काजाम करेंगे।

आंदोलन के कारण करीब 70 ट्रेनें डायवर्ट
गुर्जर आंदोलन के कारण त्योहारी सीजन में यात्रियों को भारी परेशानी हो रही है। रेलवे 70 ट्रेनों को डायवर्ट कर चला रहा है। यात्रियों को 300 िकमी का लंबा सफर तय करना पड़ रहा है। ज्यादातर ट्रेनों को जयपुर के रास्ते निकाला जा रहा है।

दूसरे गुट ने कहा- स्वीकार नहीं विजय बैंसला का नेतृत्व
सरकार से 14 बिंदुओं पर समझौता करने वाले दूसरे गुट ने बैंसला के बेटे विजय का नेतृत्व खारिज किया है। हिम्मत सिंह ने शनिवार को कहा- समाज के अगले नेता का फैसला महापंचायत में होगा। क्योंकि विजय को आरक्षण संबंधी पूरे मामले की जानकारी भी नहीं है। संघर्ष समिति में उनसे सीनियर कई लोग मौजूद है। प्रतिनिधि मंडल में शामिल श्रीराम बैसला, यादराम मोरौली, विजयराम सरपंच, हरकिशन, हरज्ञान पीपरा, अतर सिंह ने रोष जताते कहा कि जिस ट्रैक पर आरक्षण की मांग को लेकर समाज के 16 लोग शहीद हुए थे।

विजय बैसला उसी जगह पर अपना बर्थडे केक काटकर खुशी मना रहे हैं। सरकार ने देवनारायण योजना के तहत 1.10 अरब के हॉस्टल स्वीकृत करने के साथ ही शेष रहे तीनों शहीदों के परिजनों को नियुक्ति पत्र और मुआवजा देने की सरकार ने तैयारी कर ली है। ऐसे में कर्नल बैसला को आंदोलन समाप्त कर देना चाहिए।

गुर्जरों की मांगों को लेकर निर्णय लेगी सरकार : चांदना
खेल मंत्री चांदना ने कहा- गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक बैंसला और उनके प्रतिनिधि सरकार के साथ वार्ता के लिए तैयार हैं। उन्हें वार्ता के लिए बयाना या हिड़ौन में आमंत्रित किया गया है। ऐसे में राज्य सरकार किसी भी स्थान पर वार्ता के लिए तैयार है। सरकार उनकी मांगों पर चर्चा कर यथोचित निर्णय करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here