देश का फॉरेक्स रिजर्व पहली बार 550 अरब डॉलर के पार हुआ

0
52

नई दिल्ली। देश का फॉरेक्स रिजर्व पहली बार 550 अरब डॉलर को पार कर गया है। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के आंकड़े के मुताबिक 9 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में यह 5.867 अरब डॉलर (43,427 करोड़ रुपए) की उछाल के साथ 551.505 अरब डॉलर (40,34,267 करोड़ रुपए) पर पहुंच गया। इससे पहले 2 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में यह 3.618 अरब डॉलर उछलकर 545.638 अरब डॉलर हो गया था। आरबीआई के आंकड़ों के मुताबिक पहली बार 5 जून 2020 को समाप्त सप्ताह में देश का फॉरेक्स रिजर्व बढ़कर 500 अरब डॉलर के पार पहुंचा था।

विदेशी मुद्रा संपत्ति (फॉरेन करेंसी असेट्स) में भारी उछाल के कारण फॉरेक्स रिजर्व में बढ़ोतरी हुई है। 9 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में फॉरेन करेंसी असेट्स (FCA) 5.737 अरब डॉलर बढ़कर 508.783 अरब डॉलर पर पहुंच गया। FCA को डॉलर में लिखा जाता है, लेकिन इसमें विदेशी मुद्रा संपत्तियों में मौजूद यूरो, पाउंड और येन जैसी अन्य गैर-डॉलर मुद्रा संपत्ति के वैल्यू में उतार-चढ़ाव का भी इस पर असर होता है।

गोल्ड रिजर्व का वैल्यू 11.3 करोड़ डॉलर बढ़ा
गोल्ड रिजर्व का वैल्यू इस दौरान 11.3 करोड़ डॉलर बढ़कर 36.598 अरब डॉलर हो गया। इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड (आईएमएफ) में देश का स्पेशल ड्रॉइंग राइट्स (SDR) 40 लाख डॉलर बढ़कर 1.480 अरब डॉलर हो गया। आईएमएफ में देश का रिजर्व पोजिशन भी 1.3 करोड़ डॉलर बढ़कर 4.644 अरब डॉलर पर पहुंच गया।

एक साल में 111.8 अरब डॉलर बढ़ा फॉरेक्स रिजर्व
आरबीआई के आंकड़ों के मुताबिक गत एक साल में देश का फॉरेक्स रिजर्व 111.793 अरब डॉलर बढ़ा है। इसी तरह 31 मार्च 2020 के मुकाबले फॉरेक्स रिजर्व में 73.698 अरब डॉलर की बढ़ोतरी हुई है। फॉरेन करेंसी असेट्स भी गत एक साल में 100.903 अरब डॉलर और 31 मार्च 2020 के बाद से 66.57 अरब डॉलर बढ़ा है।