चार सप्ताह बिना मास्क बाहर नहीं निकलेंगे तो नवंबर तक कोरोना खत्म: डॉ. सरीन

0
277

जयपुर। चार हफ्ते सभी ने मास्क पहना तो नवंबर तक कोरोना देश में खत्म हो जायेगा। यह जानकारी ऑनलाइन जनसंवाद के दौरान डॉ. एसके सरीन ने दी। गहलोत सरकार ने मंगलवार को कोरोना के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए एक ही मंच पर प्रदेश के ढाई लाख लोगों और 10 हजार पंचायतों से सबसे बड़ा ऑनलाइन जनसंवाद किया। इसमें देश के कई विख्यात डॉक्टर्स भी लोगों से रूबरू हुए। सीएम अशोक गहलोत ने कहा, आज कोरोना हर व्यक्ति की लड़ाई बन गया है।

सरकार इससे लड़ने के हरसंभव प्रयास कर रही है। अब लोगों को भी खुद आगे आना होगा। कोरोना के प्रति जागरूकता अब सामाजिक आंदोलन बनना चाहिए। यदि कोरोना को काबू करना है तो हर व्यक्ति अनिवार्य रूप से मास्क पहने। सोशल डिस्टेंसिंग रखें, हैल्थ प्रोटोकॉल की पालना करें।

मार्च में ही हमारे एक्सपर्ट्स ने कह दिया था कि 10% आबादी कोरोना से संक्रमित हो सकती है। वही हुआ। भारत पहला देश बन गया है, जहां रोज एक लाख रोगी मिलने शुरू हो गए हैं। डॉक्टर्स ने कहा, मास्क को वैक्सीन मानें। नो मास्क-नो एंट्री का नियम लागू हो।

इन्होंने भी लिया हिस्सा: 10 हजार पंचायतों, ढाई लाख लोगों, राज्य मंत्रिमंडल के सदस्य, सांसद, विधायक, राज्य के प्रशासन व पुलिस के अधिकारी, मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य, सीएमएचओ, पीएमओ एवं चिकित्सक, ग्राम पंचायत स्तर के जनप्रतिनिधि व कार्मिकों ने भी इस परिचर्चा में हिस्सा लिया।

लाइव प्रसारण ग्राम पंचायत स्तर तक आमजन को लाइव प्रसारण से जोड़कर सीएम की तरफ से अनूठी पहल की गई। यह जागरूकता संवाद रीजनल टीवी चैनल्स, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के अलावा 8 हजार से ज्यादा ई-मित्र प्लस सेंटर्स तथा वेबकास्ट के माध्यम से लाइव प्रसारण किया गया।

ये दिग्गज शामिल हुए
संवाद में मेदांता (गुरुग्राम) के एमडी डॉ. नरेश त्रेहान व आईएलबीएस (दिल्ली) के निदेशक डॉ. एसके सरीन व नारायणा हृदयालय (बेंगलुरू) के अध्यक्ष डॉ. देवी शेट्टी जैसे विख्यात डॉक्टरों ने लोगों को जागरूक किया।

इसे हल्के में न लें, ये दिल व फेफड़े कमजोर कर देता है
ये त्रिकोणीय लड़ाई है। सरकार, डाॅक्टर्स और जनता को मिलकर लड़ना होगा। लोग इसे हल्के में ना लें। कोरोना से ठीक होने पर भी दिल, फेफड़े आदि अंग कमजोर हो जाते हैं, जो घातक है। लापरवाही बरतकर बाहर से कोरोना को घर पर आमंत्रित न करें। घर में बच्चों, बुजुर्गों का सोचें कि आप वायरस लाए तो उन्हें खतरा है। राजस्थान सरकार ने कोरोना से मुकाबले के लिए प्रभावी कार्य किया है। – डॉ. नरेश त्रेहान, मेदांता हॉस्पिटल

डॉक्टर्स कम पड़ने वाले हैं, सरकार 5 हजार भर्तियां करे
कोरोना प्रबंधन में देश-दुनिया ने बहुत कुछ सीखा है। भीलवाड़ा मॉडल राजस्थान ने ही दिया है। पर कोरोना अभी एक साल और चलेगा। सरकार तैयार रहे। डाॅक्टर्स कम पड़ने वाले हैं। सरकार अभी से पांच हजार नए डाॅक्टर्स भर्ती करे। हर स्थिति में भीड़ से बचना होगा। जांच व इलाज में देरी घातक हो सकती है। हमें तैयार रहना होगा, वरना देश में रोज 5 लाख रोगी आएंगे, तब मौतों का हाल और भयावह होगा। – डॉ. देवी शेट्‌टी, नारायणा ह्णदयालय

आपको तय करना है, मास्क पहनेंगे या कोरोना झेलेंगे
सरकार सभी सार्वजनिक स्थानों, सरकारी एवं निजी संस्थानों, बैंक, बाजारों आदि में ‘नो मास्क-नो एंट्री’ का नियम सख्ती से लागू करे। मास्क के 3 फायदे हैं। आप बचेंगे, सामने वाला बचेगा और खुद के लिए वैक्सीन का काम करेगा। फेफड़े कमजोर नहीं होंगे। चार हफ्ते सभी ने मास्क पहना तो नवंबर तक कोरोना खत्म। न पहना तो एक साल चलेगा। क्या करना है, राजस्थान में हर व्यक्ति तय कर ले। – डॉ. एसके सरीन, आईएलबीएस