नीट-2020: पेपर ओवर ऑल सामान्य रहा, कट ऑफ़ अधिक जाने की संभावना

0
113

कोटा। देश की सबसे बड़ी मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट-2020 रविवार को एक पारी में संपन्न हो गई। पेन-पेपर मोड पर हुई इस परीक्षा में कोविड-19 को देखते हुए सावधानियां बरती गई। एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट के निदेशक बृजेश माहेश्वरी ने बताया कि इस वर्ष नीट का पेपर ओवर ऑल सामान्य रहा। इसलिए स्टूडेंट्स इस बार अधिक अंक स्कोर कर सकते हैं। ऐसे में इस बार कट ऑफ़ भी अधिक जाने की पूरी संभावना है।

फिजिक्स व बाॅयलोजी में एक-एक सवाल की भाषा को लेकर स्टूडेंट्स में असमंजस रहा। वहीं कैमेस्ट्री में फिजिकल कैमेस्ट्री आसान रही। अन्य विषयों में गत वर्ष की तरह ही सामान्य पेपर रहा लेकिन, कुछ सवाल इस बार हटकर रहे। वहीं एनसीईआरटी के सिलेबस को पूरी तरह से फोलो किया गया। डिफिकल्टी लेवल कम था। मार्किंग पैटर्न के अनुसार हर सही उत्तर के लिए 4 अंक दिए जाएंगे। प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 1 अंक काटा जाएगा। अनुत्तरित प्रश्न के लिए न कोई अंक दिया जाएगा और न ही काटा जाएगा।

फिजिक्स
फिजिक्स का पेपर औसत रहा। कुल पूछे गए 45 प्रश्नों में 17 प्रश्न 11वीं कक्षा एवं 28 प्रश्न 12वीं कक्षा के सिलेबस पर आधारित थे। पेपर में 33 प्रश्नों का स्तर आसान एवं 11 का मध्यम रहा। मात्र 1 प्रश्न ऐसा था जिसका स्तर कठिन माना जा रहा है। मैकेनिक्स टाॅपिक से 10 प्रश्न पूछे गए। जबकि हीट टाॅपिक से 5, एसएचएम एंड वेव्स से 2, इलेक्ट्रोडायनेमिक्स से 14, ऑप्टिक्स से 4 एवं माॅडर्न एंड इलेक्ट्रोनिक्स टाॅपिक से 10 प्रश्न पूछे गए थे। मैकेनिक्स में बेसिक मैथ एंड वेक्टर्स, डब्ल्यूपीई एवं सर्कुलर मोशन, एसएचएम एंड वेव्स में साउंड वेव्स व डाॅपलर इफेक्ट, थर्मल फिजिक्स में थर्मल एक्सपांशन, हीट ट्रांसफर, इलेक्ट्रो डायनेमिक्स में ईएम एवं ऑप्टिक्स में वेव ऑप्टिक्स से कोई प्रश्न नहीं पूछा गया था।

कैमेस्ट्री
कैमेस्ट्री के पेपर ने विद्यार्थियों को राहत दी। पेपर आसान था। कुल 45 प्रश्न पूछे गए थे, जिसमें 25 प्रश्नों का स्तर काफी आसान था। इसी प्रकार 17 प्रश्न मध्यम स्तरीय एवं 3 प्रश्नों का स्तर कठिन रहा। सबसे ज्यादा 24 प्रश्न 12वीं कक्षा के सिलेबस पर आधारित थे। जबकि शेष प्रश्न 11वीं कक्षा के सिलेबस से पूछे गए थे। सबसे ज्यादा 16़ प्रश्न फिजीकल कैमिस्ट्री से पूछे गए। इसके अलावा इनऑर्गेनिक कैमिस्ट्री से 15 एवं ऑर्गेनिक कैमिस्ट्री से 14 प्रश्न पूछे गए। इनऑर्गेनिक कैमिस्ट्री के पेपर का स्तर वर्ष 2019 के समान था। जबकि फिजीकल व इनऑर्गेनिक कैमिस्ट्री का पेपर वर्ष 2019 की अपेक्षा आसान था। लगभग सभी टाॅपिक्स कवर किए गए थे लेकिन, कैमिकल इक्विलीबिरीयम, आईयूपीएसी नोमेनक्लेचर, आईसोमेरिज्म टाॅपिक्स से कोई प्रश्न नहीं पूछा गया।

बाॅयोलाॅजी
बाॅयलोजी का पेपर इस बार आसान था लेकिन लेन्दी भी रहा। पेपर में कुल 41 प्रश्नों का स्तर काफी आसान, 34 मध्यम स्तरीय एवं 7 प्रश्न कठिन स्तर का था। अधिकतम प्रश्न एनसीईआरटी के सिलेबस पर आधारित थे। जिसमें कक्षा 11 के सिलेबस से 48 प्रश्न कवर किए गए थे। जबकि 12वीं कक्षा के सिलेबस से 42 प्रश्न पूछे गए। बोटनी और जूलाॅजी की तुलना करें तो बोटनी से 57 प्रश्न पूछे गए थे जबकि जूलाॅजी से 33 प्रश्न आए।