कोटा संभाग में समर्थन मूल्य पर अब तक 6.44 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद

0
87

कोटा। भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) ने न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीद का रिकॉर्ड बना लिया है। एफसीआई ने कोटा संभाग में अब तक की सर्वाधिक खरीद की है। पिछले साल के मुकाबले दोगुने से ज्यादा गेहूं की खरीद हुई है। कोटा संभाग में एफसीआई ने सोमवार तक 6.44 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद कर ली है।

इस बार 16 अप्रेल को खरीद शुरू हुई थी, शुरुआत में कोरोना संक्रमण के कारण सीमित किसानों को टोकन देकर खरीद की व्यवस्था की थी, बाद में प्रशासन ने खरीद की सीमा बढ़ा दी। इस कारण अधिक से अधिक किसान समर्थन मूल्य पर गेहूं बेच सके। इसकी एवज में एफसीआई ने अब तक 1240 करोड़ रुपए का भुगतान किसानों को जारी कर दिया है।

एफसीआई के मण्डल प्रबंधक डी.एस. मीणा का कहना है विषम परिस्थिति में गेहूं खरीद जारी रखी गई। किसानों को खरीद के 48 घंटे के भीतर भुगतान किया गया। एफसीआई ने खरीद शुरू होने से पहले कोटा संभाग में ढाई लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीद का लक्ष्य निर्धारित कर तैयारियां शुरू की थी। बाद में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के कहने पर केन्द्रीय खाद्य मंत्रालय से भी स्पष्टीकरण जारी किया। पिछले साल 2.78 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदा गया था, जबकि सोमवार तक इस बार 6.44 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदा जा चुका है।

7 जुलाई तक होगी समर्थन मूल्य पर खरीद: भारतीय खाद्य निगम अब 7 जुलाई तक समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद करेगी। खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय ने मंगलवार को इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला की जानकारी में आया कि तारीख बढ़ाए जाने के बावजूद बड़ी संख्या में ऐसे किसान हैं जिनका गेंहू नहीं खरीदा जा सका। ऐसे में बिरला ने खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय को वस्तु स्थिति से अवगत करवाया। इसके बाद मंत्रालय ने मंगलवार को खरीद की अवधि 7 जुलाई तक बढ़ा दी।

इन जगहों पर होगी खरीद
अब कोटा में भामाशाह कृषि उपजमंडी, सुल्तानपुर कृषि उपजमंडी तथा बूंदी जिले में बूंदी कृषि उपज मंडी तथा केशोरायपाटन कृषि उपज मंडी में एफ सीआई 7 जुलाई तक समर्थन मूल्य पर गेंहू की खरीद जारी रखेगी। ऐसे में किन्ही कारणों से टोकन लेने से वंचित किसान संबधित तहसील से टोकन प्राप्त कर समर्थन मूल्य पर गेंहू बेच सकता है।