जयपुर, जोधपुर व कोटा नगर निगम के चुनाव 31 अगस्त तक संभव

0
77

जयपुर। राजस्थान हाईकोर्ट ने राज्य सरकार और नगर निगम को प्रदेश में नगर निगम चुनाव 31 अगस्त तक कराने की छूट दी है। कोर्ट ने इस संबंध में जयपुर, जोधपुर एवं कोटा नगर निगम चुनाव की तारीख बढ़वाने को लेकर राज्य चुनाव आयोग व राज्य सरकार की प्रार्थना पत्र को मंजूर कर लिया। इसके साथ ही राज्य में निगम चुनाव को लेकर स्थिति स्पष्ट हो गई है।

उल्लेखनीय है कि कोविड: 19 (Covid-19) के संक्रमण के चलते जयपुर, जोधपुर व कोटा सहित छह नगर निगम के चुनाव फिलहाल होना संभव नहीं है। मौजूदा हालातों में चुनाव नहीं कराए जाने को लेकर राज्य चुनाव आयोग ने भी तीनों जगह के छह नगर निगमों के चुनावों की तारीख बढ़वाने के लिए गत शुक्रवार को हाईकोर्ट में प्रार्थना पत्र दायर किया था।

राज्य चुनाव आयोग के अधिवक्ता आरबी माथुर की ओर से दायर प्रार्थना पत्र में हाईकोर्ट से पूर्व के 18 मार्च के आदेश को संशोधित करने और चुनाव की तारीख बढ़वाने का आग्रह किया था। चीफ जस्टिस इंद्रजीत महांति और जस्टिस एसके शर्मा की खंडपीठ ने राज्य सरकार और चुनाव आयोग की याचिका को स्वीकार करते हुए चुनाव 31 अगस्त तक कराने के आदेश जारी किए।

यह कहा था चुनाव आयोग ने
चुनाव आयोग ने कहा कि प्रदेशभर में कोविड : 19 संक्रमण के कारण 3 मई तक लॉकडाउन है। पूरी सरकारी मशीनरी इस महामारी को नियंत्रित करने में लगी हुई है। लॉकडाउन हटने के बाद कुछ समय सोश्यल डिस्टेंसिंग मैंटेन करने में भी लगेगा। ऐसे हालातों में अदालत के 18 मार्च के आदेशानुसार जयपुर, जोधपुर व कोटा के छह नगर निगमों में चुनाव कराना संभव नहीं है। इसलिए अदालत राज्य चुनाव आयोग को इन छह नगर निगमों में चुनाव करवाने के लिए 31 अगस्त तक का समय दे।

दरअसल हाईकोर्ट ने सतीश शर्मा की याचिका में राज्य सरकार के प्रार्थना पत्र पर कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते हुए 18 मार्च के आदेश से जयपुर, जोधपुर व कोटा में 5 अप्रैल से होने वाले छह नगर निगम चुनावों को 17 अप्रैल से छह सप्ताह की अवधि तक के लिए स्थगित कर दिया था। साथ ही राज्य सरकार व राज्य निर्वाचन आयोग को छूट दी थी कि यदि जरूरत हो तो वे समय बढ़वाने के लिए कोर्ट में अर्जी लगा सकते हैं। हाईकोर्ट के आदेशानुसार यह अवधि जून के प्रथम सप्ताह तक पूरी हो रही थी।

25 नवंबर को भंग हुआ था नगर निगम बोर्ड
जयपुर नगर निगम बोर्ड गत साल 25 नवंबर को भंग हुआ था, वहां दिसंबर में चुनाव होने थे। परिसीमन के बाद जयपुर में वार्ड 91 से 150 कर दिए। चुनाव होते इससे पहले राज्य सरकार ने जयपुर, कोटा और जोधपुर में दो-दो नगर निगम बना दिए। फरवरी-मार्च महीने में नए वार्डों को परिसीमन कर जयुपर ग्रेटर निगम में 150 वार्ड और हैरिटेज निगम में 100 वार्ड की अधिसूचना जारी की। 5 अप्रेल को चुनाव होने थे, लेकिन 18 मार्च को कोरोना वायरस संक्रमण के कारण राज्य सरकार के प्रार्थना पत्र पर हाईकोर्ट ने तीनों नगर निगम के चुनाव जून तक स्थगित कर दिए थे।