रामायण और महाभारत को लेकर आपत्तिजनक ट्वीट पर मामला दर्ज

0
68

अहमदाबाद। रामायण और महाभारत को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी करने पर सुप्रीम कोर्ट के वकील प्रशांत भूषण सहित 3 पर मामला दर्ज किया गया है। बता दें कि ये कार्रवाई गुजरात के राजकोट के भाक्तिनगर पुलिस थाने में की गई है।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के वकील प्रशांत भूषण ने रामायण और महाभारत को लेकर आपत्तिजनक ट्वीट किया था। उन्होंने ट्वीट कर धर्म ग्रंथ को अफीम के नशे जैसा बताया था। इसके बाद उनके इस ट्वीट को एश्लीन मैथ्यू और कन्नन गोपीनाथन ने भी समर्थन किया था। इसके बाद इन तीनों व्यक्तियों के खिलाफ भक्तिनगर पुलिस थाने में शिकायत दर्ज की गई, जिस पर पुलिस ने तीनों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। अब पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी हैं।

बता दें कि भारतीय सेना के सेवानिवृत कैप्टन जयदेव जोषी की ओर से यह शिकायत दर्ज कराई गई है। पुलिस ने भारतीय दंड संहिता की धारा 295 (ए), 505 (1) (बी), 34 एवं 120 (बी) के तहत तीनों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। सेवानिवृत जयदेव जोषी राजकोट के धर्मदर्शन अपार्टमेंट धर्मजीवन सोसायटी रोड़ ढेबर रोड के निवासी हैं और उन्होंने अपनी शिकायत में इस ट्वीट पर कड़ी आपत्ति जताई है।

उन्होंने अपनी शिकायत में लिखा कि इस ट्वीट से उन करोड़ों लोगों की आस्था को ठेस पहुंची है जो इनमें अटूट आस्था रखते हैं। शिकायत में जयदेव जोषी ने कहा है कि प्रशांत भूषण ने 28 मार्च को अपने ट्वीटर में रामायण और महाभारत में अफीम शब्द का उपयोग किया। इससे मेरी और करोड़ो हिन्दुओं की धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं।

शिकायत में कहा गया है कि देश के न्यायालयों में गवाहों को गवाही देने के पहले शपथ दिलाई जाती हैं। इस शपथ में हिंदू धर्म ग्रंथ महाभारत, रामायण का नाम शामिल हैं। इस प्रकार की ट्वीट से धार्मिक भावनाएं कमजोर पड़ जाती हैं। महाभारत श्रीमद् गीता से निकला है। इसलिए किसी को भी धार्मिक ग्रंथ रामायण, महाभारत की ओर अंगुली उठाने का अधिकार नहीं है।