JEE Main 2020: टॉपर निशांत बोले 'कोचिंग से ज्यादा खुद की पढ़ाई बहुत जरुरी'

0
663

नई दिल्ली। निशांत अग्रवाल उन नौ स्टूडेंट्स में शामिल हैं, जो जेईई मेन में 100 पर्सेंटाइल के साथ टॉपर बने हैं। निशांत कहते हैं, टॉप करने का तो नहीं सोचा था, रिजल्ट देखकर मैं हैरान और खुश दोनों ही था। यह मेरी पहली कोशिश थी। अब पहले फरवरी में क्लास 12 के बोर्ड और फिर जेईई एडवांस्ड पर फोकस रहेगा। आईआईटी दिल्ली से पढ़ना मेरा सपना है।

नैशनल टेस्टिंग एजेंसी ने शुक्रवार रात को इसी महीने हुए जेईई मेन के रिजल्ट का ऐलान किया। निशांत कहते हैं, अब जनवरी और अप्रैल दोनों में एग्जाम होता है। जनवरी के एग्जाम से मुझे आइडिया मिल गया कि मैं कितना तैयार हूं। निशांत 11वीं क्लास से इंजिनियरिंग की तैयारी कर रहे हैं। उनके जुड़वा भाई प्रणव भी इंजिनियरिंग की ही रेस में हैं और जेईई मेन में उन्हें 99.93 पर्सेंटाइल मिली है।

साकेत में रहने वाले निशांत रोजाना 10-11 घंटे की पढ़ाई करते हैं। उनका कहना, मैं अपना टाइमटेबल फॉलो करता हूं। अपनी जरूरत के हिसाब से इसे बनाया है। जो पढ़ा उसे समझकर और एंजॉय करके पढ़ा। पढ़ाई मेरे लिए प्रेशर नहीं है। द्वारका के न्यू सैनिक पब्लिक स्कूल के निशांत कहते हैं, मैंने तैयारी के लिए कोचिंग भी जॉइन की क्योंकि मुझे लगता है कि वे अनुभवी टीचर्स होते हैं और आपका बेस्ट बाहर निकालते हैं। हालांकि, खुद की पढ़ाई बहुत मायने रखती है।

इस बार 9 स्टूडेंट्स के परफेक्ट स्कोर
इस बार जेईई मेंस के रिजल्ट में 9 छात्रों ने परफेक्ट 100 स्कोर हासिल किए हैं। यह जानकारी एचआरडी मिनिस्ट्री की ओर से दी गई है। जेईई मेन जनवरी 2020 में जिन स्टूडेंट्स ने 100 पर्सेंटाइल स्कोर हासिल किए हैं उनमें आंध्र प्रदेश के लांडा जितेंद्र और थदावर्थी विष्णु श्री साई शंकर, दिल्ली के निशांत अग्रवाल, गुजरात के निसार्ग चड्ढा, हरियाणा के दिव्यांशु अग्रवाल, राजस्थान के अखिल जैन और पार्थ द्विवेदी और तेलंगाना के रोंगाला अरुण सिद्धार्थ और चागरी कौशल कुमार रेड्डी शामिल हैं।

रेकॉर्ड टाइम में आया रिजल्ट
इस बार एनटीए ने रेकॉर्ड 10 दिन के अंदर परीक्षा का रिजल्ट जारी कर दिया है। देश के 233 शहरों और विदेश में रोजाना दो शिफ्टों में परीक्षा का आयोजन 7 जनवरी से लेकर 9 जनवरी, 2020 तक किया गया था। कुल 9,21,261 कैंडिडेट्स ने इस बार बीई/बीटेक की परीक्षा के लिए पंजीकरण कराया था। देश और विदेश में करीब 570 परीक्षा केंद्र थे।