चरित्र निर्माण के लिए आर्य समाज का वैदिक संस्कार शिविर 27 से

    0
    323

    कोटा। आर्य समाज कोटा की ओर से तीन दिवसीय व्यक्तित्व विकास एवं वैदिक संस्कार शिविर शिव ज्योति कान्वेंट स्कूल रथकांकरा में 27 दिसम्बर से आयोजित किया जाएगा। इसमें मनुष्य के चरित्र निर्माण, आध्यात्मिक विकास, सम्पूर्ण शारीरिक उन्नति समेत विभिन्न विषयों के बारे में जानकारी दी जाएगी।

    शिविर के पोस्टर का विमोचन आईपीएस अमृता दुहन द्वारा किया गया। इस दौरान आईपीएस अमृता दुहन ने कहा कि आर्य समाज के सिद्धान्त मानवतावादी एवं प्राणीमात्र के लिए हैं। आर्य समाज की वैदिक संस्कृति विचारधारा से संसार का कल्याण होगा। कृण्वन्तो विश्वामर्यम के आधारभूत सिद्धान्त से विश्व में शांति स्थापित की जा सकती है। हर समय में आर्य समाज की सदैव आवश्यकता महसूस होती रहेगी। आर्य समाज की नींव हमारे आधारभूत संस्कारों पर खड़ी है।

    इससे पहले आईपीएस दुहन का वैदिक मंत्रोच्चार के साथ केसरिया साफा पहनाकर, गायत्री मंत्र का दुपट्टा ओढाकर सम्मान किया गया। उन्हें महर्षि दयानन्द सरस्वती कृत सत्यार्थ प्रकाश भी भेंट किया। इस दौरान पीसी मित्तल एवं अजुनदेव चड्ढा ने कोटा में आर्य समाज की गतिविधियों के बारे में जानकारी दी।